गुरुवार को महाराष्ट्र के शोलापुर में एक सार्वजनिक कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी की तबीयत फिर बिगड़ गई. तब उन्हें राष्ट्र गान के बीच में ही कुर्सी पर बैठना पड़ा. खबरों के मुताबिक नितिन गडकरी अहिल्या बाई होल्कर यूनिवर्सिटी के एक कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए थे. उसी दौरान उन्हें चक्कर आने की शिकायत महसूस हुई थी. इसके फौरन बाद डॉक्टरों ने उनकी जांच की और उनकी स्थिति खतरे से बाहर बताई.

डॉक्टरों ने यह भी कहा कि केंद्रीय मंत्री के गले में संक्रमण था. इसके लिए बुधवार को उन्होंने एंटी बायोटिक्स का हैवी डोज लिया. इन दवाइयों के रिएक्शन की वजह से उन्हें चक्कर आने की शिकायत हुई थी. डॉक्टरों का आगे कहना था कि केंद्रीय का ब्लड प्रेशर और शुगर लेवल सामान्य है. ऐसे में उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंता की जरूरत नहीं है.

वैसे यह पहली बार नहीं जब किसी सार्वजनिक कार्यक्रम के दौरान नितिन गडकरी की तबीयत बिगड़ी है. इससे पहले बीते साल सात दिसंबर में महाराष्ट्र के अहमदनगर में एक कार्यक्रम के दौरान गडकरी अचानक मंच पर बेहोश हो गए थे. इसके फौरन बाद उन्हें नजदीक के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया. तब डॉक्टरों ने उनके बेहोश होने के पीछे उनका शुगर लेवल कम हो जाने की बात कही थी.