भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने शुक्रवार को कहा कि वह भविष्य में टीम इंडिया का कोच बनना चाहते हैं लेकिन मौजूदा समय में इस जिम्मेदारी वाले पद के इच्छुक नहीं हैं.

पीटीआई के मुताबिक शुक्रवार को कोलकाता में एक कार्यक्रम के दौरान सौरव गांगुली ने कहा, ‘यह दौर निकलने दीजिये, मैं इस दौड़ में शामिल हो जाऊंगा....फिलहाल मैं कई चीजों से जुड़ा हुआ हूं, मुझे उन सब से निपटने दीजिए. किसी समय मैं कोच पद के लिए दावेदारी पेश करूंगा. जाहिर है इसमें मेरी रूचि है लेकिन अभी नहीं.’

47 वर्षीय सौरव गांगुली अभी बंगाल क्रिकेट संघ के अध्यक्ष हैं और आईपीएल फ्रेंचाइजी ‘दिल्ली कैपिटल्स’ से सलाहकार के तौर पर जुड़े हैं. इसके अलावा वे क्रिकेट कामेंट्री और एक लोकप्रिय बंगाली टेलीविजन शो की मेजबानी भी करते हैं.

इस समय भारतीय टीम के लिए नये कोच की खोज जारी है क्योंकि वेस्टइंडीज दौरे के बाद मौजूदा कोच रवि शास्त्री का कार्यकाल पूरा हो जाएगा. नए कोच के लिए कप्तान विराट कोहली ने रवि शास्त्री का खुला समर्थन किया है. कोच का चयन करने वाली समिति के अध्यक्ष कपिल देव ने भी कहा है कि विराट कोहली राय का सम्मान करने की जरूरत है.

वर्तमान में कोच चयन प्रक्रिया पर बात करते हुए सौरव गांगुली का कहना था, ‘इस बार कोच के पद के लिए ज्यादा बड़े नामों ने आवेदन नहीं किया. मैंने सुना था कि माहेला जयवर्धने आवेदन करेंगे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया.’

गांगुली ने रवि शास्त्री के कार्यकाल के बारे में पूछे गये सवाल का जवाब देने से इनकार कर दिया. उनका कहना था, ‘इस पर मैं अभी अपने विचार व्यक्त नहीं करना चाहूंगा. मुझे नहीं लगता कि कुछ बोलने का यह सही समय है. कोच का चयन करने की प्रक्रिया से मैं काफी दूर हूं.’

वेस्टइंडीज दौरे पर भारतीय टीम की जीत की संभावनों पर पूर्व कप्तान ने कहा कि भारतीय टीम को वेस्टइंडीज दौरे पर मुश्किल चुनौती का सामना करना होगा क्योंकि वेस्टइंडीज टी20 में विश्व चैम्पियन है और उसने इस साल इंग्लैंड को 2-1 से हराया था. पूर्व कप्तान के मुताबिक एकदिवसीय और टेस्ट में भी भारत को वेस्टइंडीज से कड़ी टक्कर मिलेगी.