जर्मन ऑटोमोबाइल कंपनी पॉर्शे ने अपनी स्पोर्ट्स एसयूवी मकेन नया अवतार लॉन्च कर दिया है. वैश्विक बाज़ार में नई मकैन ने बीते साल दस्तक दी थी. मकेन-2019 के आने के बाद कंपनी ने भारत में इस कार के पुराने मॉडल टर्बो की बिक्री रोक दी है. पॉर्शे ने अपनी इस बेहतरीन पेशकश के लिए शुरुआती कीमत 69.98 लाख रुपए तय की है जो इसके टॉप मॉडल ‘एस’ के लिए 85.03 लाख रुपए तक जाती है. नई मकेन में पॉर्शे ने डिज़ाइन, कंफर्ट, कनेक्टिविटी और ड्राइविंग डाइनैमिक्स जैसे हर मोर्च पर ख़ूब मेहनत की है.

यदि मकेन-2019 की डिज़ाइन की बात करें तो यह कार कंपनी की ही कायेन से प्रभावित दिखने के साथ आगे से ज्यादा चौड़ी नज़र आती है. नई ग्रिल और स्पोर्टी एयर डैम्स के साथ कार का फ्रंट शार्प लुक देता है. मकेन के साथ नए ऑल एलईडी सेटअप हैडलैंप दिए गए हैं. कार की टेललाइट्स भी एलईडी हैं. पॉर्शे ने नई मकेन को चार नए रंगों- मायामी ब्ल्यू, माम्बा ग्रीन मैटेलिट, डोलोमाइट सिल्वर मैटेलिक और क्रेयॉन में उपलब्ध करवाया है. इंटीरयर के मामले में भी मकेन-2019 जमकर फ्रेश अपील देती है. इस कार के डैशबोर्ड पर पॉर्शे कनेक्ट सिस्टम से लैस नया 10.9-इंच का टचस्क्रीन इंफोटेनमेंटस सिस्टम लगाया गया है. कार में थ्री-ज़ोन क्लाइमेट कंट्रोल, एंड्रॉइड ऑटो और एपल कार प्ले के साथ क्रूज़ कंट्रोल जैसे फीचर्स भी हैं. साथ ही इसमें बोस और बर्मेस्टर साउंड सिस्टम मिलता है. नई मकेन में एसी वेंट्स की जगह बदल दी गई है.

परफॉर्मेंस की बात करें तो नई मकेन के साथ पॉर्शे ने विकल्प के तौर पर दो इंजन पेश किए हैं. कार के बेस वेरिएंट के साथ 2.0-लीटर टर्बो पेट्रोल इंजन दिया गया है जो 247 बीएचपी की अधिकतम पॉवर के साथ 370 एनएम का पीक टॉर्क पैदा करने में सक्षम है. वहीं पॉर्शे मकेन एस में 3.0-लीटर का वी6 इंजन लगा है जो 345 बीएचपी की पॉवर और 480 एनएम का पीक टॉर्क जनरेट करने की क्षमता रखता है. दोनों ही इंजन 7-स्पीड डुअल-क्लच ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन से लैस हैं. स्पोर्ट्स क्रोनो पैकेज के साथ पॉर्शे मकैन एस 0-100 किलोमीटर/घंटा की रफ़्तार पकड़ने में महज 5.1 सेकंड का समय लेने के साथ 254 किलोमीटर/घंटा की टॉप स्पीड को छूने में सक्षम है. है. बाज़ार में पॉर्शे की यह नई कार ऑडी क्यू5, मर्सिडीज़-बेंज़ जीएलई, बीएमडब्ल्यू एक्स5, जगुआर एफ-पेस जैसी कई और कारों को टक्कर दे सकती है.

कावासाकी की रेट्रो स्टाइल बाइक डब्ल्यू-800 लॉन्च

जापानी मोटरसाइकिल निर्माता कंपनी कावासाकी ने भारत में अपनी स्ट्रीट रेट्रो-स्टाइल मोटरसाइकल डब्ल्यू-800 पेश की है. यह भारत में कावासाकी के इस लाइनअप की दूसरी बाइक है. डब्ल्यू-800 से पहले ज़ी900आरएस इस सेगमेंट में कावासाकी का प्रतिनिधित्व कर रही थी. बीते कुछ वर्षों में भारत में रेट्रो स्टाइल लुक्स वाली मोटरसाइकिलों के लिए जमकर क्रेज़ देखा गया है. कई प्रमुख कंपनियां अलग-अलग बजट रेंज के अपने उत्पादों के साथ इस सेगमेंट के ग्राहकों को लुभाने के जतन में लगी हैं. इस फेहरिस्त में हीरो स्पलेंडर क्लासिक से लेकर रॉयल एनफील्ड और ज़ावा मोटरसाइकलों से लेकर हार्ले डेविडसन और ट्रायम्फ तक की बाइकें शामिल हैं.

डब्ल्यू-800 को सेमी नॉक्ड डाउन यूनिट यानी पार्ट्स की शक्ल में भारत लाया जाएगा और यहीं इसे असेंबल किया जाएगा. कावासाकी ने भारत में सबसे पहले 2015 में डीलरशिप लेवल पर इस मोटरसाइकल को डिस्प्ले किया था जिसने ग्राहकों का ध्यान जमकर खींचा था. डब्ल्यू-800 में कावासाकी ने चौड़ा हैंडलबार और बेहद आरामदायक सीट दी है. इस बाइक के साथ बाइक क्रोम फिनिश वाले ट्विन एग्ज़्हॉस्ट पाइप दिए इसे और ख़ूबसूरत बनाते हैं. बाइक के फ्रंट सस्पेंशन को भी रेट्रो स्टाइल के हिसाब से बनाया गया है. वहीं बाइक की रियर लाइट इसे नए जमाने वाला फील देती है. इसके अलावा इस बाइक में चार तरह से एडजस्ट किया जा सकने वाला ब्रेक लीवर और अलोंग साइड सूचना देने के लिए एलसीडी डिस्प्ले भी मिलता है.

परफॉर्मेंस के मामले में कावासाकी ने डब्ल्यू-800 के साथ 773सीसी क्षमता का ट्विन-सिलेंडर फ्यूल-इंजेक्टेड एसओएचसी इंजन लगाया है जो 47 बीएचपी की अधिकतम पॉवर के साथ 62.9 एनएम का पीक टॉर्क जनरेट करता है. इस तरह इस बाइक की ताकत तकरीबन रॉयल एनफील्ड की इंटरसेप्टर-650 के बराबर, लेकिन टॉर्क 11 एनएम ज्यादा है. इस इंजन के साथ स्लिपर क्लच के साथ 5-स्पीड गियरबॉक्स जोड़ा गया है. चूंकि इस बाइक का वजन 221 किलोग्राम वजन है इसलिए इससे हाई-परफॉर्मेंस की उम्मीद नहीं कर की जा सकती, लेकिन कंपनी का दावा है कि इसकी राइड आरामदायक रहेगी. यदि आप डब्ल्यू-800 को घर लाना चाहते हैं तो आपको जल्द ही इसकी बुकिंग करवानी होगी. क्योंकि कावासाकी का कहना है कि वह इस फिलहाल भारत में इस बाइक की निर्धारित यूनिट ही उपलब्ध करवाएगी जिनकी डिलिवरी अगस्त के आख़िर तक शुरु हो जाएगी. कंपनी ने अपनी इस पेशकश के लिए 7 लाख 99 हजार रुपए एक्सशोरूम कीमत तय की है.

मारुति-सुज़ुकी अर्टिगा की दो उपलब्धियां

मारुति-सुज़ुकी के मल्टी यूटिलिटी व्हीकल अर्टिगा ने पिछले महीने बिक्री के मामले में सेगमेंट की सभी गाड़ियों को पीछे छोड़ दिया है. जून 2019 में अर्टिगा की 7,567 यूनिट बेची गई जो कि बीते साल इसी महीने की 4,311 यूनिट से करीब 76 फीसदी ज्यादा है. मंदी के विकट दौर में भी अर्टिगा के शानदार प्रदर्शन का श्रेय कार की नई पीढ़ी के लुक्स और फीचर्स को दिया जा रहा है. मारुति ने नई जनरेशन अर्टिगा को बीते साल नवंबर में लॉन्च किया था. ख़बरों के मुताबिक बीते कुछ महीनों में इस गाड़ी की औसत बिक्री 8000 यूनिट से ज्यादा रही है.

बीएस-6 ईंधन उत्सर्जन मानकों पर खरे उतरने वाले वाहनों में शामिल होकर अर्टिगा ने इस हफ़्ते दूसरी उपलब्धि हासिल की है. बीएस-6 मानकों पर खरी उतरने वाली अर्टिगा मारुति-सुज़ुकी की पांचवीं गाड़ी है. इससे पहले कंपनी की हैचबैक वैगन-आर, स्विफ्ट, प्रीमियम हैचबैक बलेनो और कॉम्पैक सेडान डिज़ायर के साथ नए मानकों पर खरे उतरने वाले इंजन लगाए जा चुके हैं. नई अर्टिगा की दिल्ली में एक्सशोरूम कीमत 7.54 लाख रुपए से लेकर 10.05 लाख रुपए तक है. भारत में मारुति-सुज़ुकी की इस लोकप्रिय एमपीवी के 6 वेरिएंट (बीएस- 6 पेट्रोल)- एलएक्सआई, वीएक्सआई, वीएक्सआई एटी, ज़ीएक्सआई, ज़ीएक्सआई+ और ज़ीएक्सआई एटी उपलब्ध हैं.

अर्टिगा के साथ लगा 1462 सीसी क्षमता का चार सिलेंडर वाला नया इंजन कंपनी के स्मार्ट हाइब्रिड व्हीकल सिस्टम (एसएचवीएस) के साथ जोड़ा गया है. एसएचवीएस में कार में एक ऑटोचार्ज बैटरी लगी होती है जो सिग्नल जैसी जगहों पर गाड़ी के निष्क्रिय खड़े रहने पर इंजन की बजाय गाड़ी को खुद चालू रखती है. इस तरह ईंधन की खपत के साथ प्रदूषण तो घटता ही है. साथ ही यह बैटरी इंजन के साथ पॉवर देकर गाड़ी की परफॉर्मेंस को भी बढ़ाती है. यह इंजन 6000 आरपीएम पर 103 बीएचपी की पॉवर और 4400 आरपीएम पर 138 एनएम का टॉर्क पैदा करने में सक्षम है. इस इंजन के साथ 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स और वैकल्पिक 4-स्पीड ऑटोमैटिक टॉर्क कनवर्टर दिया गया है.

वहीं अगर गाड़ी के डीज़ल वेरिएंट की बात करें तो कार के साथ वैकल्पिक तौर पर डीडीआईएस तकनीक से लैस दो इंजन दिए गए हैं. इनमें से 1248 सीसी क्षमता का पहला 89 बीएचपी पॉवर के साथ 200 एनएम का टॉर्क पैदा करता है. वहीं 1498 सीसी क्षमता का इंजन 94 बीएचपी की ताकत और 225 एनएम का टॉर्क पैदा कर सकता है. अर्टिगा डीज़ल के तीन वेरिएंट वीडीआई, ज़ीडीआई और ज़ीडीआई+ बाज़ार में उपलब्ध हैं. 2019 मारुति-सुज़ुकी अर्टिगा डीज़ल वेरिएंट की दिल्ली में शुरुआती एक्सशोरूम कीमत 9.86 लाख रुपए है जो एमपीवी के टॉप मॉडल के लिए 11.20 लाख रुपए तक जाती है.

वाहन कंपनियों की बिक्री में बड़ी गिरावट

देश का ऑटोसेक्टर मंदी की मार से लगातार जूझ रहा है जिसका सबसे ज्यादा असर कार निर्माता कंपनियों पर पड़ा है. यदि देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति-सुज़ुकी की बात करें तो उसकी बिक्री 36.71 फीसदी कमी के साथ सर्वाधिक प्रभावित हुई है. मार्केट शेयर में 4.44 फीसदी बढ़त के बावजूद ह्युंडई की बिक्री में 10.28 प्रतिशत की कमी देखी गई है. इसी तरह महिंद्रा की बिक्री 1.56 और टाटा की बिक्री 38.61 प्रतिशत घटी है. यदि अन्य कार निर्माताओं की बात करें तो जीप की बिक्री 58.46 प्रतिशत, निसान-डैटसन की बिक्री 53.46 प्रतिशत, होंडा की बिक्री 48.67 प्रतिशत, रेनो की बिक्री 41.13 प्रतिशत, टोयोटा की बिक्री 23.79 प्रतिशत, फोर्ड की बिक्री 19.60 प्रतिशत, स्कोडा की बिक्री 14.60 प्रतिशत कम हुई है. हालांकि इस मंदी के बावजूद हाल ही में लॉन्च हुई ह्युंडई वेन्यू और एमजी हेक्टर जैसी कारें कमाल कर रही हैं. वहीं अगर दो-पहिया वाहन कंपनियों की बात करें तो हीरो मोटर्स की बिक्री में 21 प्रतिशत और रॉयल एनफील्ड की बिक्री में 19 प्रतिशत की कमी हुई है. मई-2016 के बाद जून-2019 पहला महीना था जब रॉयल एनफील्ड बाइकों की बिक्री पचास हजार यूनिट से घटकर 49,182 ही रह गई.

मंदी में भी ह्युंडई वेन्यू का कमाल

हाल में लॉन्च हुई ह्युंडई की वेन्यू को बाज़ार से जबरदस्त प्रतिक्रिया मिल रही है. ऑटो सेक्टर के लिए भारी मंदी के दौर में भी इस कार को महज साठ दिन में पचास हजार बुकिंग मिल चुकी हैं. कार की बिक्री में सर्वाधिक 35 फीसदी हिस्सा ऑटोमेटिक वेरिएंट का है. इस कॉम्पैक एसयूवी की दिल्ली एक्सशोरूम कीमत 6.50 लाख रुपए है जो कार के टॉप मॉडल के लिए 11.10 लाख रुपए तक जाती है.

वेन्यू में तीन इंजन विकल्प दिए गए हैं. इनमें पहला 1.0-लीटर क्षमता का कप्पा टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल इंजन है जो 118 बीएचपी की अधिकतम पॉवर के साथ 172 एनएम का पीक टॉर्क पैदा करने में सक्षम है. इस इंजन को कंपनी ने बिल्कुल नए 7-स्पीड डुअल-क्लच ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन से लैस किया है. इसके अलावा कार के साथ 1.2-लीटर क्षमता नेचुरली इंस्पायर्ड पेट्रोल इंजन दिया है जो 82 बीएचपी पॉवर और 114 एनएम का अधिकतम टॉर्क जनरेट करता है, यह इंजन 5-स्पीड मैन्युअल गियरबॉक्स से लैस है. और आख़िर में 1.4-लीटर का यू2 सीआरडीआई डीज़ल इंजन आता है जो इस कार को 89 बीएचपी की अधिकतम ताकत के साथ 220 एनएम का जबरदस्त पीक टॉर्क देता है. इस इंजन को कंपनी ने 6-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स से जोड़ा है.

हीरो स्प्लेंडर सर्वाधिक बिकने वाली दो-पहिया वाहन बनी

होंडा की लोकप्रिय स्कूटर एक्टिवा को पीछे छोड़कर हीरो की स्प्लेंडर एक बार फिर सर्वाधिक बिकने वाली बाइक बन गई है. बीते कुछ वर्षों के दौरान इन दोनों ही वाहनों में बिक्री के मामले में जबरदस्त प्रतिस्पर्धा देखने को मिली है. बीते जून महीने हीरो स्प्लेंडर की 2,42,743 यूनिट बिकी थीं जो एक्टिवा की कुल बिक्री से छह हजार यूनिट ज्यादा थीं.

वहीं जनवरी-2019 से लेकर जून-2019 के बीच स्पलेंडर की कुल 13,80,306 यूनिट बिकी जो एक्टिवा की 12,33,216 यूनिट से कहीं ज्यादा है. इन दोनों वाहनों के बाद इस साल सर्वाधिक बिकने वाली गाड़ियों में हीरो एचएफ डीलक्स, होंडा सीबी शाइन, बजाज पल्सर, हीरो ग्लैमर, बजाज प्लैटिना, टीवीएस जूपीटर, हीरो पैशन, टीवीएस एक्सएल सुपर 52,253 शामिल है.