जम्मू-कश्मीर को लेकर केंद्र के फैसले पर कांग्रेस में दोफाड़, राहुल गांधी ने इसे कार्यपालिका की ताकत का दुरुपयोग बताया, कई दूसरे नेताओं ने उलट बात कही

जम्मू-कश्मीर को लेकर धारा 370 पर केंद्र के फैसले पर कांग्रेस में राय बंटी हुई नजर आ रही है. पार्टी नेता राहुल गांधी ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए आ कहा कि ये कार्यपालिका की शक्तियों का दुरुपयोग है. अपने एक ट्वीट में उनका ये भी कहना था कि इसका देश की राष्ट्रीय सुरक्षा पर गंभीर असर पड़ेगा. उधर, उनकी ही पार्टी के वरिष्ठ नेता जनार्दन द्विवेदी का कहना है कि ऐसा करके मोदी सरकार ने एक ऐतिहासिक गलती सुधारी है. उनका कहना था कि उनके व्यक्तिगत विचार से ये एक राष्ट्रीय संतोष की बात है. पार्टी नेता दीपेंद्र हुडा ने भी कुछ ऐसी ही बात कही है. उनका कहना है कि 21वीं सदी में अनुच्छेद 370 का कोई औचित्य नहीं बनता. पार्टी के कुछ अन्य नेताओं ने भी इसी तरह की राय जाहिर की है.

धारा 370 अप्रभावी करने के केंद्र के फैसले पर लोकसभा में हंगामा, अमित शाह ने कहा - जम्मू-कश्मीर में पाक अधिकृत कश्मीर और अक्साई चिन भी शामिल

जम्मू-कश्मीर में धारा 370 को अप्रभावी करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने के मोदी सरकार के फैसले पर लोकसभा में चर्चा जारी है. कांग्रेस ने इसका तीखा विरोध किया है. पार्टी नेता अधीर रंजन चौधरी ने केंद्र पर नियमों को तोड़ने का आरोप लगाया. कांग्रेस के एक अन्य वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी ने इस फैसले को संवैधानिक त्रासदी करार दिया. उनका कहना था कि केंद्र सरकार ने जो कदम उठाया है वह देश के संघीय ढांचे के खिलाफ है. उधर, गृह मंत्री अमित शाह ने इन आरोपों को खारिज किया. उन्होंने कांग्रेस को ये बताने की चुनौती भी दी कि सरकार ने कौन सा नियम तोड़ा है. अमित शाह का कहना था कि जब वे जम्मू-कश्मीर कहते हैं तो इसमें पाक अधिकृत कश्मीर और अक्साई चिन भी शामिल होते हैं.

इस दौरान कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन अपने एक बयान को लेकर घिर गए. उन्होंने कहा कि जब जम्मू-कश्मीर मुद्दे को 1948 से संयुक्त राष्ट्र भी देख रहा है तो ये भारत का अंदरूनी मामला कैसे हुआ. सोशल मीडिया पर उनके इस बयान की काफी आलोचना हो रही है. पार्टी नेतृत्व भी इसे लेकर नाराज बताया जा रहा है.

उन्नाव बलात्कार मामले की पीड़िता की हालत बेहद नाजुक, अदालत ने उस समेत मामले के गवाहों की सुरक्षा पर स्टेटस रिपोर्ट मांगी

दिल्ली के एम्स में भर्ती उन्नाव बलात्कार मामले की पीड़िता की हालत बेहद नाजुक बताई जा रही है. उसे फिलहाल वेंटिलेटर पर रखा गया है. अलग-अलग डॉक्टर पीड़िता की हालत पर करीब से नजर रखे हुए हैं. उधर, दिल्ली की एक अदालत ने पीड़िता, उसके परिवार और मामले के गवाहों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उठाए गए कदमों पर सीबीआई से स्थिति रिपोर्ट मांगी है. अदालत सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के अनुरूप इस मामले में रोज सुनवाई कर रही है. पीड़िता को बेहतर इलाज के लिए एम्स लाने का आदेश भी सुप्रीम कोर्ट ने ही दिया था. बीती 28 जुलाई को उसकी कार को एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी. इस हादसे में उसके दो रिश्तेदारों सहित तीन लोगों की मौत हो गई थी. पीड़ित परिवार ने इसे भाजपा से निष्कासित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की साजिश बताया है. वे बलात्कार मामले में भी मुख्य आरोपित हैं.

उत्तराखंड में दो सड़क हादसों में नौ स्कूली बच्चों सहित 14 लोगों की मौत

उत्तराखंड में आज दो अलग-अलग सड़क हादसों में नौ स्कूली बच्चों सहित 14 लोगों की मौत हो गई. पहला हादसा टिहरी जिले में हुआ जब स्कूली बच्चों को ले जा रही एक जीप खाई में गिर गई. हादसे में नौ बच्चे घायल भी हुए हैं. इनमें कुछ की स्थिति गंभीर बताई जा रही है. दूसरा हादसा दूसरा हादसा बद्रीनाथ हाइवे पर हुआ जहां यात्रियों से भरी एक बस पर एक चट्टान का टुकड़ा गिरने से पांच लोगों की मौत हो गई. इससे पहले बीती 28 जुलाई को भी टिहरी जिले में एक ऐसा ही हादसा हुआ था. इसमें कांवड़ियों के एक वाहन पर चट्टान का टुकड़ा गिरने से चार लोग मारे गए थे.

अमेरिका ने चीन को मुद्रा के साथ छेड़छाड़ करने वाला देश घोषित किया

अमेरिका ने चीन को आधिकारिक तौर पर मुद्रा के साथ छेड़छाड़ करने वाला देश यानी करेंसी मैनिपुलेटर घोषित कर दिया है. उसने चीन पर व्यापार में अनुचित फायदा लेने के लिए युआन का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है. अमेरिका के इस कदम से दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच व्यापार मोर्चे पर चल रहे टकराव के गहराने की आशंका है. इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक ट्वीट में कहा था कि चीन अनुचित व्यापार गतिविधियों और मुद्रा की विनियम दर में छेड़छाड़ के जरिये अमेरिका से अरबों डॉलर का फायदा लेता रहा है. डोनाल्ड ट्रंप ने लिखा कि इस एकतरफा सिलसिले को बहुत पहले खत्म हो जाना चाहिए था.

देश और दुनिया की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें.