66वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार के विजेताओं की घोषणा कर दी गई है. शुक्रवार को यह घोषणा पुरस्कारों का चयन करने वाले निर्णायक मंडल के अध्यक्ष राहुल रवैल ने की. इसके साथ ही उन्होंने केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को विजेताओं के नामों की सूची भी सौंपी. इस बार के पुरस्कारों में ‘अंधाधुन’ को सर्वश्रेष्ठ हिंदी फिल्म के तौर पर चुना गया है. श्रीराम राघवन के निर्देशन में बनी इस फिल्म में आयुष्मान खुराना और तब्बू ने मुख्य भूमिकाएं निभाई हैं. इस फिल्म के लिए आयुष्मान खुराना को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार के लिए भी चुना गया है.

गैर फीचर फिल्म के लिहाज से सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार ‘सनराइज’ और ‘द सीक्रेट लाइफ ऑफ फ्रॉग’ के हिस्से में आया है. वहीं बेस्ट एजुकेशनल फिल्म के लिए ‘सरला विरला’ तो राष्ट्रीय अखंडता के लिए ‘ओंडल्ला इराडल्ला’ को चुना गया है. आमतौर पर राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा अप्रैल माह में कर दी जाती है लेकिन इस साल लोकसभा चुनाव होने की वजह से इसकी घोषणा में देर हुई है.

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में हिंदी फिल्म ‘उरी : द सर्जिकल स्ट्राइक’ के खाते में भी कई पुरस्कार आए हैं. आदित्य धर को इस फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक तो विकी कौशल को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता (आयुष्मान खुरान के साथ ही) के लिए चुना गया है. इसके अलावा बेस्ट म्यूजिक डायरेक्शन और बेस्ट साउंड डिजाइन के पुरस्कार भी इसी फिल्म की झोली में गिरे हैं. लोकप्रिय फिल्म का पुरस्कार ‘बधाई हो’ के नाम है. वहीं पर्यावरण मुद्दों पर बनी सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए ‘पानी’ तो सामाजिक मुद्दों पर सर्वश्रेष्ठ फिल्म के लिए ‘पदम’ को चुना गया है.

इनके अलावा कीर्ति सुरेश को फिल्म ‘महानटी’ के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री तो ‘बधाई हो’ में शानदार अभिनय के लिए सुरेखा सीकरी को सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के पुरस्कार से नवाजा जाएगा. वहीं सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का पुरस्कार ‘चुंबक’ के लिए स्वानंद किरकिरे को दिया जाएगा.

इसी तरह मलयाम फिल्म ‘ओलू’ में सिनेमैटोग्राफी के लिए एमजे राधाकृष्णन को सर्वश्रेष्ठ सिनेमैटोग्राफर चुना गया है. सर्वश्रेष्ठ कोरियोग्राफी के लिए हिंदी फिल्म ‘पद्मावत’ को चुना गया है. इसी फिल्म के लिए संजय लीला भंसाली को सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशन का पुरस्कार भी दिया जाएगा. इस साल ओरिजनल स्क्रीनप्ले के लिए ‘ची ला सो’ तो वहीं डायलॉग के लिए ‘तारिक’ पुरस्कृत होगी. सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक के रूप में अरिजीत सिंह जबकि गायिका के तौर पर बिंदू मालिनी को चुना गया है. प्रोडक्शन के लिहाज से सर्वश्रेष्ठ फिल्म का खिताब ‘ऑ’ के खाते में आया है जबकि प्रोडक्शन डिजाइन के लिए मलयालम फिल्म ‘कम्मारा संभवम’ को चुना गया है.

क्षेत्रीय फिल्मों की बात करें तो सर्वश्रेष्ठ राजस्थानी फिल्म का पुरस्कार ‘टर्टल’ के खाते में अया है. टर्टल के साथ तमिल में ‘बारम’ मराठी में ‘भोंगा’ उर्दू में ‘हामिद’ तेलुगू में ‘महानटी’ असमिया में ‘बुलबुल कैन सिंग’ पंजाबी में ‘हरजीता’ को भी इसी श्रेणी के पुरस्कार के लिए चुना गया है.