केरल में मूसलाधार बारिश का कहर अब भी जारी है. बाढ़, भूस्खलन और बारिश संबंधी घटनाओं में मरने वालों की संख्या बढ़कर 42 हो गई है. वहीं, एक लाख से अधिक लोगों ने राहत शिविरों में पनाह ली है. पीटीआई के मुताबिक आठ अगस्त से अभी तक बारिश संबंधी घटनाओं में कोझिकोड और मलप्पुरम में जिले में 20 और वायनाड में नौ लोगों की जान गई है.
केरल के 988 राहत शिविरों में 1,07,699 लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है. वायनाड से सबसे अधिक 24,990 लोगों ने इन शिविरों में पनाह ली है. अधिकारियों ने बताया कि मलप्पुरम और वायनाड में हुए भूस्खलन के मलबे के नीचे अब भी कई लोगों के दबे होने की आशंका है. वहां राहत अभियान जारी है.

उधर, कांग्रेस नेता राहुल गांधी केरल में बाढ़ की स्थिति और राहत एवं बचाव कार्य का जायजा लेने के लिए रविवार को अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड जाएंगे. नई दिल्ली में कांग्रेस कार्य समिति की बैठक के बाद उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘मैं कल दो दिनों के लिए वायनाड जा रहा हूं.’ इससे पहले केरल और वायनाड में बाढ़ की स्थिति को लेकर राहुल गांधी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की थी और उनसे सहायता मांगी थी. उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं का आह्वान भी किया था कि वे बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आएं.

केरल के कोच्चि में स्थित अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर विमान परिचालन रविवार को बहाल हो जाएगा. कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा लिमिटिड के प्रवक्ता ने शनिवार को पत्रकारों को बताया, ‘हवाई अड्डा तैयार है. उड़ानों का परिचालन कल दोपहर 12 बजे से शुरू हो जाएगा.’ इससे पहले, अधिकारी ने बताया था कि हवाई अड्डे के एप्रॉन क्षेत्र (वह क्षेत्र जहां विमान खड़े किए जाते हैं, उनमें ईंधन भरा जाता है और सामान रखा जाता है) से पानी कम होना शुरू हो गया है और साफ-सफाई का काम शुरू कर दिया गया है. कोच्चि अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के रनवे पर शुक्रवार को बाढ़ की वजह से पानी भर गया था.