अनुच्छेद 370 : राष्ट्रपति के आदेश के खिलाफ नेशनल कॉन्फ्रेंस सुप्रीम कोर्ट पहुंची

जम्मू-कश्मीर को लेकर इसी हफ्ते किए सरकार के फैसलों के खिलाफ नेशनल कॉन्फ्रेंस (एनसी) ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है. एनसी के नेताओं मोहम्मद अकबर लोन और हसनैन मसूदी ने इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की है. इसके जरिये उन्होंने शीर्ष अदालत से अनुच्छेद 370 को लेकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की तरफ से दिए आदेश को असंवैधानिक और अमान्य घोषित करने की मांग की है. इसी याचिका से दोनों नेताओं ने इस राज्य को दो हिस्सों में बांटने वाले ‘जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम- 2019’ को भी असंवैधानिक घोषित करने का अनुरोध किया है. (विस्तार से)

गृह मंत्रालय ने कश्मीर में ‘भारी विरोध प्रदर्शन’ की खबरों को खारिज किया

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मीडिया में आई उन खबरों को खारिज किया है कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के विरोध में कश्मीर घाटी में भारी विरोध प्रदर्शन हुए हैं. मंत्रालय के मुताबिक इस दौरान कश्मीर घाटी में छोटे-मोटे प्रदर्शन ही देखने को मिले हैं. मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने दावा किया है, ‘श्रीनगर/बारामूला में छिटपुट प्रदर्शन हुए हैं और इनमें से किसी प्रदर्शन में 20 से अधिक लोग शामिल नहीं रहे.’ (विस्तार से)

केरल में बारिश का कहर जारी, मरने वालों की संख्या 42 हुई

केरल में मूसलाधार बारिश का कहर अब भी जारी है. बाढ़, भूस्खलन और बारिश संबंधी घटनाओं में मरने वालों की संख्या बढ़कर 42 हो गई है. वहीं, एक लाख से अधिक लोगों ने राहत शिविरों में पनाह ली है. आठ अगस्त से अभी तक बारिश संबंधी घटनाओं में कोझिकोड और मलप्पुरम में जिले में 20 और वायनाड में नौ लोगों की जान गई है. केरल के 988 राहत शिविरों में 1,07,699 लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है. वायनाड से सबसे अधिक 24,990 लोगों ने इन शिविरों में पनाह ली है. अधिकारियों ने बताया कि मलप्पुरम और वायनाड में हुए भूस्खलन के मलबे के नीचे अब भी कई लोगों के दबे होने की आशंका है. वहां राहत अभियान जारी है. (विस्तार से)

जम्मू-कश्मीर : शोपियां के बाद अजीत डोभाल अनंतनाग की सड़कों पर दिखे, स्थानीय लोगों से बातचीत की

अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को खत्म करने संबंधी केंद्र के फैसले के बाद से ही राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की जम्मू-कश्मीर सक्रियता काफी चर्चा में है. कहा जा रहा है कि उन्होंने इस हफ्ते ज्यादातर समय वहीं बिताया है और इस बीच शनिवार को माहौल का जायजा लेने के लिए वे जम्मू-कश्मीर के तीसरे सबसे बड़े शहर अनंतनाग की सड़कों पर दिखाई दिए. यहां ईद के मौके पर भेड़ें बेचने के लिए आए एक चरवाहे से उन्होंने बातचीत भी की. (विस्तार से)

आंध्र प्रदेश चेन्नई को जलसंकट से उबारने के लिए कृष्णा नदी का पानी छोड़ने पर तैयार हुआ

बीते कुछ महीनों से भीषण जल संकट का सामना कर रहे तमिलनाडु के चेन्नई के लिए आंध्र प्रदेश ने मदद का हाथ बढ़ाया है. आंध्र प्रदेश ने चेन्नई को आठ हजार मिलियन क्यूबिक (टीएमसी) फुट पेयजल की आपूर्ति करने के प्रति रजामंदी जाहिर की है. तमिलनाडु के लिए आंध्र प्रदेश की तरफ से पानी की यह आपूर्ति कृष्णा नदी से की जाएगी. साथ ही इसे तेलुगू गंगा नहर के जरिये वहां तक पहुंचाया जाएगा. (विस्तार से)