अमेरिकी वाहन निर्माता कंपनी जीप ने भारत में अपनी लोकप्रिय ऑफरोड एसयूवी रैंगलर का नया अवतार लॉन्च कर दिया है. जीप ने इस कार को सबसे पहले लॉस एंजिलस ऑटो-शो- 2017 और उसके बाद जेनेवा मोटर-शो- 2018 में पेश किया था. जीप ने भारतीय बाज़ार में पिछली जनरेशन की रैंगलर को 2016 में उतारा था. जीप ने रैंगलर-2019 के लिए 63.94 लाख रुपए एक्सशोरूम कीमत तय की है. लुक्स के मामले में जीप ने रैंगलर-2019 को अपने सिग्नेचर स्टाइल डिज़ाइन ‘बुच एंड बॉक्सी’ पर ही तैयार किया है जिसके फ्रंट में 7-स्लॉट ग्रिल और क्लासिक राउंड (एलईडी) हैडलैंप्स मिलते हैं. लेकिन यहां कई मॉडर्न एलिमेंट्स के ज़रिए जीप ने नई रैंगलर को फ्रेश अपील देने की सफल कोशिश है.

नई जीप अपनी पिछली पीढ़ी की तुलना में हल्की बनाई गई है. हालांकि गाड़ी की बॉडी पहले की ही तरह स्टील की बनी है लेकिन इसके डोर, बोनट और फेंडर्स (डोर और पहियों को सुरक्षित करने वाले ऑटोपार्ट्स) को एलुमिनियम का बनाया गया है. इस बार रैंगलर में जीप ने 4-व्हील ड्राइव हाई और 4-व्हील ड्राइव लो के साथ बिल्कुल नया 4-व्हील ड्राइव ऑटो मोड भी दिया है.

रैंगलर-2019 का केबिन इस कार के नए होने की गवाही जमकर देता है. गाड़ी में नया डैशबोर्ड, 8.4 इंच का इनबिल्ट नेविगेशन वाला यूकनेक्ट 4सी एनएवी टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम, एप्पल कार प्ले और एंड्रॉइड ऑटो, डुअल ज़ोन ऑटोमेटिक क्लाइमेट कंट्रोल, पुश बटन स्टार्ट और टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्मट जैसी कई खूबियां शामिल हैं. नई रैंगलर में जीप ने सेंटर कंसोल पर लगे इलेक्ट्रॉनिक स्विच से ऑपरेट किए जा सकने वाले डिफ लॉक्स दिए हैं. सरल भाषा में समझें तो डिफ लॉक्स वह तकनीक है जिसके अनलॉक रहने पर गाड़ी के चारों पहिए असमान रफ़्तार लेकिन समान टॉर्क से रोटेट होते हैं. और लॉक रहने पर कार के चारों पहियों की रफ़्तार समान लेकिन टॉर्क अलग-अलग रहता है. इस तरह यह तकनीक मोड़ पर गाड़ी के टायरों को घिसने से बचाने के साथ ऊंचे और टेढ़े और मेढ़े रास्तों को आसानी से पार करवाने में खासी मददगार साबित होती है.

परफॉर्मेंस की बात करें तो वैश्विक स्तर पर जीप रैंगलर चार इंजन विकल्प के साथ आती है. लेकिन भारत में यह गाड़ी सिर्फ़ 2.0 लीटर क्षमता और चार सिलेंडर वाले टर्बो पेट्रोल इंजन के साथ आती है जो 268 बीएचपी की अधिकतम पॉवर के साथ 400 एनएम टॉर्क पैदा करने में सक्षम है. यह इंजन 8-स्पीड ऑटोमेटिक गियरबॉक्स के साथ जोड़ा गया है. जानकारी के अनुसार गाड़ी के एक्सल ट्यूब पहले से दोगुने मजबूत बनाए गए हैं. साथ ही कार की टर्निंग रेडियस को भी पहले से घटा दिया गया है. विशेषज्ञों के मुताबिक भारत में इस सेगमेंट में रैंगलर को टक्कर देने वाली कोई कार नज़र नहीं आती, फिर भी कुछ ग्राहक कीमत की वजह से लैंडरोवर डिस्कवरी स्पोर्ट्स और पोर्शे मकेन से इस गाड़ी की तुलना कर सकते हैं.

सुज़ुकी की दो बाइकों के नए वर्ज़न

जापान की ऑटोमोबाइल कंपनी सुज़ुकी ने भारत में इस हफ़्ते अपनी दो बाइकों के अपडेटेड वर्ज़न लॉन्च कर दिये हैं. इनमें जिक्सर एसएफ-250 मोटो जीपी एडिशन और जिक्सर-250 शामिल हैं. कंपनी ने इन दोनों बाइकों के लिए क्रमश: 1.71 लाख रुपए और 1.60 लाख रुपए एक्सशोरूम कीमत तय की है. जिक्सर-250 को जिक्सर एसएफ-250 का नेकेड वर्ज़न माना जा रहा है. यानी इन दोनों गाड़ियों का फ्रेम, स्टाइल और परफॉर्मेंस करीब-करीब बराबर है. दोनों बाइकों में मामूली बदलाव है तो सिर्फ़ राइडिंग पोजिशन का. जानकारी के अनुसार सुज़ुकी जिक्सर-250 सिंगल पीस हैंडलबार और अपराइट राइडिंग पॉजिशन के साथ आती है.

सुज़ुकी जिक्सर एसएफ-250 मोटो

दोनों बाइकों में दिए गए स्टाइलिंग एलीमेंट्स जैसे- एलईडी हैडलैंप, फ्युअल टैंक, टैंक एक्सटेंशन्स और स्पिलिट सीट कंपनी की ही जिक्सर-155 की याद ताजा करवाते हैं. इन बाइकों में प्लास्टिक बेली पैन और एलसीडी डिस्प्ले वाला डिजिटलाइज़्ड इंस्ट्रुमेंट पैनल जैसी ख़ूबियां भी शामिल हैं. कंपनी ने जिक्सर-250 को दो कलर ऑप्शन- ऑल ब्लैक और व्हाइट-ग्रे कलर डुअल टोन थीम के साथ लॉन्च किया है. वहीं नई स्टाइल और शार्प लुक वाली जिक्सर एसएफ-250 सिर्फ़ ब्लू पेंट स्कीम के साथ आती है जिसके साथ दिए गए फ्लुओरसेंट रिम टेप और एक्स्टार (सुज़ुकी की ही एक ब्रांड) लोगो ध्यान आकर्षित करते हैं.

सुज़ुकी जिक्सर- 250

सस्पेंशन, चेसी, टायर और व्हील्स के साथ दोनों बाइकों में लगा 249 सीसी क्षमता का सिंगल सिलेंडर इंजन भी समान ही है. यह एसओएचसी ऑइल-कूल्ड मशीन 9000 आरपीएम पर 26.5 एचपी की अधिकतम पॉवर और 7500 आरपीएम पर 22.6 एनएम का टॉर्क पैदा करने में सक्षम है. इस इंजन के साथ 6-स्पीड गियरबॉक्स और स्टैंडर्ड डुअल चैनल एबीएस दिया गया है. हालांकि जिक्सर एसएफ-250 की तुलना में नई जिक्सर-250 156 किलोग्राम के साथ वजन में पांच किलो हल्की है. बाज़ार में ये बाइकें होंडा सीबीआर- 250 आर और यामाहा फेज़र 25 को टक्कर दे सकती हैं.

लॉन्च से पहले ही किया सेल्टोस का कमाल

दक्षिण कोरिया की ऑटोमोबाइल कंपनी किआ की एसयूवी सेल्टोस को भारत में लॉन्च से पहले ही जबरदस्त प्रतिक्रिया मिल रही है. किआ मोटर्स का दावा है कि उसकी इस नई पेशकश के लिए अभी तक 23 हजार बुकिंग मिल चुकी हैं. भारतीय ऑटोसेक्टर में चल रही जबरदस्त मंदी के बावजूद सेल्टोस की इस उपलब्धि ने आलोचकों का ध्यान आकर्षित किया है. संभावना है कि इस 22 अगस्त को लॉन्च के बाद महीने के अंत तक सेल्टोस की डिलीवरी शुरु कर दी जाएगी.

कंपनी ने सेल्टॉस को सबसे पहले ऑटो एक्सपो-2018 में कॉन्सेप्ट के तौर पर शोकेस किया था. लुक्स के मामले में यह कार काफी हद तक उसी कॉन्सेप्ट कार से मिलती-जुलती है. किआ ने अपनी इस नई पेशकश को दो बेहतरीन डिज़ाइन लाइन- टेक और जीटी में उपलब्ध कराया है. जानकारों के अनुसार सेल्टॉस अपने सेगमेंट में देश की पहली कार है जिसे दो डिज़ाइन में उपलब्ध कराया गया है. इनमें से किआ सेल्टॉस की टेक लाइन को आरामदायक यात्रा के लिहाज़ से तैयार किया गया है तो जीटी लाइन में ज़्यादा आधुनिक फीचर्स मुहैया कराए गए हैं.

एमजी हेक्टर और ह्युंडई वेन्यू के बाद किआ सेल्टोस भी एक कनेक्टेड कार है. कंपनी ने इस फीचर के बारे में ज्यादा जानकारी देते हुए कहा है कि इसकी मदद से कार के इग्निशन और एसी कंट्रोल समेत कई ज़रूरी फीचर्स फोन की मदद से दूर से ही ऑपरेट किए जा सकते हैं. इनके अलावा कार के साथ रोड साइड असिसटेंट (मुसीबत के समय अपने आप ही किआ कॉल सेंटर पर कॉल करता है), एप्पल कारप्ले और एंड्रॉइड ऑटो कनेक्टिविटी फीचर्स दिए गए हैं.

परफॉर्मेंस के मामले में किआ ने सेल्टॉस को पेट्रोल और डीज़ल दोनों ट्रिम में तैयार किया है. सेल्टॉस के साथ बीएस-6 मानक पर खरे उतरने वाले 1.5-लीटर क्षमता का पेट्रोल और 1.4-लीटर क्षमता का जीडीआई टर्बो डीज़ल इंजन उपलब्ध कराए गए हैं. इन दोनों ही इंजनों में कंपनी ने 6-स्पीड मैनुअल, सीवीटी ऑटोमैटिक, और 6-स्पीड ऑटोमेटिक ट्रांसमिशन दिए हैं. कार में तीन ड्राइविंग मोड- नॉर्मल, ईको और स्पोर्ट मिलते हैं. वहीं, सेल्टॉस के जीटी लाइन के 1.4 लीटर का टर्बो पेट्रोल इंजन दिया गया है जो 7-स्पीड डुअल क्लच ऑटोमेटिक गियरबॉक्स के साथ जोड़ा गया है. कयास हैं कि किआ सेल्टॉस घर लाने के लिए आपको 10-16 लाख रुपए के बीच कीमत चुकानी होगी. जानकारों के मुताबिक बाज़ार में सेल्टॉस का मुकाबला ह्युंडई क्रेटा, निसान किक्स, रेनो कैप्चर और टाटा हैरियर से हो सकता है.

निसान किक्स का एक्सई वेरिएंट

जापानी ऑटोमोबाइल कंपनी निसान ने इस हफ़्ते भारत में अपनी कॉम्पैक एसयूवी किक्स का एक्सई वेरिएंट लॉन्च कर दिया है. यह इस कार का एंट्री लेवल वेरिएंट है. निसान एक्सई की कीमत कार के मौजूदा बेस वेरिएंट एक्सएल से करीब 1.2 लाख रुपए कम होने की वजह से 9.89 लाख रुपए (एक्सशोरूम) है.

निसान इंडिया का कहना है कि किक्स एक्सई पचास अलग-अलग फीचर्स से लैस है. इनमें- ऑटो क्लाइमेट कंट्रोल के साथ रियर एसी वेंट्स, कूल्ड ग्लवबॉक्स, 2-डिन ऑडियो सिस्टम और ब्ल्यूटूथ कनेक्टिविटी, शार्क फिन एंटीना, सेंट्रल डोरलॉक, इंपेक्ट सेंसिंग ऑटो डोर लॉक और रियर पार्किंग सेंसर्स शामिल हैं. सुरक्षा के लिहाज़ से इस कॉम्पैक्ट एसयूवी के साथ स्टैंडर्ड डुअल-एयरबैग्स, एंटीलॉक ब्रेकिंग सिस्टम (एबीएस) के साथ इलेक्ट्रॉनिक ब्रेकफोर्स डिस्ट्रिब्यूशन सिस्टम (ईबीडी) और ब्रेक असिस्ट दिया गया है.

कार में निसान कनेक्ट ऐप के ज़रिए कार को जिओ-फेसिंग, स्पीड अलर्ट, कर्फ्यू अलर्ट, लोकेट माय कार और कार लोकेशन शेयरिंग जैसे फीचर्स भी मिलते हैं. इसके निसान किक्स की-लेस एंट्री और पुश-बटन स्टार्ट-स्टॉप वाया इंटेलिजेंट की के साथ लीड मी टू कार जैसे फीचर्स से भी लैस है.

निसान ने किक्स एक्सई में वही मौजूदा 1.5-लीटर का के9के चार-सिलेंडर वाला इंजन दिया है जो 108 बीएचपी के सार 240 एनएम का अधिकतम टॉर्क पैदा करने में सक्षम है. कंपनी ने इस इंजन को 6-स्पीड मैनुअल गियाबॉक्स से जोड़ा है. नए वेरिएंट के साथ निसान ने बाज़ार में मौजूद किक्स के अन्य वेरिएंट- एक्सएल, एक्सवी और एक्सवी प्रो में कई फीचर्स अपडेट कर उनकी कीमतें 2,000 रुपए से लेकर 24,000 रुपए तक बढ़ा दी हैं. बाज़ार में निसान किक्स को ह्युंडई क्रेटा, रेनो कैप्चर और टाटा हैरियर जैसी गाड़ियों से कड़ा मुकाबला करना पड़ रहा है.

बेनेली लिओनचीनो
लॉन्च

इटली की बाइक निर्माता कंपनी बेनेली ने लंबे इंतज़ार के बाद भारत में अपनी स्क्रैंबलर स्टाइल बाइक लिओनचीनो-500 लॉन्च कर दी है. कंपनी ने इस बाइक के लिए 4.79 लाख रुपए एक्सशोरूम कीमत तय की है. भारतीय बाज़ार को बेनेली की तरफ़ से यह इस साल की तीसरी सौगात है. इससे पहले कंपनी ने फरवरी में दो जुड़वां एडवेंचर टुअर बाइक- टीआरके 502 और टीआरके 502एक्स लॉन्च की थी.

बेनेली लिओनचीनो रेट्रो लुक और मॉडर्न मैकेनिज़्म का जानदार कॉम्बिनेशन नज़र आती है. डिज़ाइन के मामले में बेनेली लिओनचीनो कंपनी की 1950 से 60 के दशक की लिओनचीनो (शेर का बच्चा) से प्रभावित नज़र आती है. बेनेली ने लिओनचीनो में गोल एलईडी हैडलैंप के साथ प्रोजैक्टर लैंस, बाइक के फ्रंट में इसके नाम से मेल खाती लायन ऑफ पेसारो नाम से शेर की छोटी डमी लगाई है. फीचर्स के लिहाज से बेनेली ने इस नई पेशकश के साथ पॉड-स्टाइल डिजिटल इंस्ट्रुमेंट क्लस्टर दिया है. भारत के लिए बनी लिओनचीनो 17-इंच अलॉय व्हील्स की वजह से 145 एमएम ग्राउंड क्लियरेंस के साथ आती है.

बेनेली इंडिया ने लिओनचीनो को दो कलर ऑप्शंस - रेड और स्टील ग्रे में उपलब्ध कराया है. मोटरसाइकल में 499-सीसी क्षमता का वही ट्विन-सिलेंडर, लिक्विड-कूल्ड इंजन लगा है जो टीआरके 502 में भी देखा गया है. यह इंजन 47 बीएचपी की अधिकतम पॉवर के साथ 46 एनएम का पीक टॉर्क जनरेट करता है और इसे 6-स्पीड गियरबॉक्स से लैस किया गया है. कंपनी ने लिओनचीनो में स्टैंडर्ड तौर पर डुअल-चैनल एबीएस दिया है.