अगस्त के पहले सात कारोबारी सत्रों में ही विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने भारतीय पूंजी बाजार से 9,197 करोड़ रुपये की शुद्ध निकासी की. बजट आने के बाद से विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक भारतीय बाजारों से लगातार निकासी कर रहे हैं.

डिपॉजिटरी के ताजा आंकड़ों के अनुसार, विदेशी निवेशकों ने एक से नौ अगस्त के बीच शेयर बाजार से 11,134.60 करोड़ रुपये निकाले, जबकि कर्ज बाजार में 1,937.54 करोड़ रुपये का निवेश किया. इस तरह उन्होंने कुल 9,197.06 करोड़ रुपये की शुद्ध बिकवाली की. जुलाई में भी विदेशी फोर्टफोलियो ने बड़ी मात्रा में भारतीय पूंजी बाजार से पैसे निकाले थे.

विशेषज्ञों का कहना है कि ट्रस्ट के रूप में पंजीकृत एफपीआई पर बजट में सुपर रिच टैक्स की घोषणा के बाद से विदेशी निवेशक बिकवाली कर रहे हैं. जानकारों के मुताबिक, वैश्विक अर्थव्यवस्था में नरमी के कारण विदेशी निवेशक सतर्क रुख अपना रहे हैं. अमेरिका-चीन व्यापार समझौता, ब्रेक्जिट एवं अन्य भूराजनीतिक मुद्दों से जुड़ी अनिश्चितता के कारण ये नरमी लंबे समय तक बनी रह सकती है.