देशभर के साथ आज जम्मू-कश्मीर में भी ईद-उल-अजहा का त्योहार मनाया गया है. हालांकि इस दौरान राज्य में कड़े सुरक्षा प्रतिबंध अब भी जारी हैं. श्रीनगर की अधिकांश बड़ी मस्जिदों में ईद की नमाज़ की अनुमति नहीं दी गई थी. ज्यादातर इलाकों में ये छोटी-छोटी मस्जिदों में अदा की गई. इस बीच जम्मू-कश्मीर पुलिस ने एक ट्वीट कर बताया है कि कश्मीर घाटी के ज्यादातर इलाकों में ईद की नमाज़ शांतिपूर्ण रही और अब तक किसी अप्रिय घटना की कोई खबर नहीं है.

केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने और उसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने के फैसले के बाद से ही राज्य में हालात तनावपूर्ण हैं. खबर है कि प्रशासन ने ईद की नमाज के बाद लोगों से अपने घरों में लौटने के लिए कहा था. साथ ही दुकानदारों से भी दुकानों को बंद करने की अपील की गई थी. जम्मू-कश्मीर में फोन और इंटरनेट सेवाएं अभी-भी बहाल नहीं की गई हैं.

उधर, घाटी में तनाव के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने श्रीनगर, पुलवामा और अवन्तीपुरा सहित तमाम इलाकों का हवाई सर्वे किया है. इसका मकसद सुरक्षा हालात की समीक्षा करना था. बीते हफ्ते भी वे कश्मीर घाटी पहुंचे थे. इस दौरान उन्होंने अनुच्छेद 370 को लेकर केंद्र सरकार के फैसले पर स्थानीय लोगों को आश्वस्त करने की कोशिश की थी.