पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा समितियों को आयकर नोटिस जारी होने के बाद राज्य की सियासत गरमा गई है. भाजपा ने सोमवार को आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस के नेताओं का एक तबका चिटफंड घोटाले से अर्जित धन को दुर्गा पूजा समितियों के जरिये सफेद बनाने के काम में लगा है. इससे पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दुर्गा पूजा समितियों को आयकर नोटिस जारी होने को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा था.

ममता बनर्जी की आपत्ति पर भाजपा के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने कहा, ‘अगर आयकर विभाग दुर्गा पूजा समितियों में आय-व्यय का ब्यौरा देख रहा है तो इसमें नुकसान क्या है? कुछ पूजा समितियों में वरिष्ठ तृणमूल नेता और मंत्री अहम पदों पर हैं तथा वे इसका इस्तेमाल चिटफंड घोटाले और कट मनी से बनाए गए काले धन को सफेद बनाने में कर रहे हैं. आयकर विभाग की कार्रवाई से तृणमूल कांग्रेस को डर है कि अब इस कड़ी का खुलासा हो जाएगा.’ उन्होंने दुर्गा पूजा समितियों पर ममता बनर्जी की चिंता को ‘घड़ियाली आंसू’ बताया और कहा कि अगर उन्हें इन समितियों की इतनी ही चिंता है तो तृणमूल कांग्रेस की सरकार ने अनेक बार राज्य में मोहर्रम के लिए दुर्गा पूजा से जुड़े आयोजनों को रोकने की कोशिश क्यों की?

ममता बनर्जी ने कई दुर्गा पूजा समितियों को आयकर नोटिस भेजे जाने पर रविवार को ट्वीट किया था. उन्होंने अपने ट्वीट में इस कदम की आलोचना करते हुए कहा था कि त्योहारों को कर के दायरे से बाहर रखा जाना चाहिए. ममता बनर्जी ने यह भी कहा था कि पूजा समितियों को आयकर नोटिस के विरोध में वह 13 अगस्त को धरने पर बैठेंगी.