अमेरिका और तालिबान के बीच हालिया दौर की बातचीत पूरी हो गयी है. पिछले करीब एक साल से यह बातचीत अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों की मौजूदगी को घटाने को लेकर हो रही थी.

पीटीआई के मुताबिक अमेरिका और तालिबान के बीच कतर में चल रही यह बातचीत रविवार देर रात एक समझौते पर पहुंच गयी. इस समझौते के तहत अब अमेरिका अफगानिस्तान से अपने 14,000 सैनिकों को निकालने की प्रक्रिया शुरू करेगा. हालांकि, दोनों पक्षों की तरफ से अभी इस समझौते के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी गई है.

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में भी इस तरह की अटकलें चल रही थी कि समझौते पर पहुंचने के बाद सोमवार को इसकी विस्तृत जानकारी मीडिया को दी जायेगी. लेकिन बातचीत में शामिल दोनों पक्षों के प्रतिनिधियों ने साफ़ कर दिया कि समझौते के आधिकारिक ऐलान से पहले वे अपने शीर्ष नेतृत्व से बातचीत करेंगे.

इस वार्ता में शामिल अमेरिका के विशेष दूत जलमय खलीलजाद ने ट्वीट कर बताया, ‘अमेरिका और तालिबान के बीच तीन अगस्त से शुरू हुई वार्ता का यह चरण समाप्त हो गया है. पिछले कुछ दिनों में दोनों पक्षों ने तकनीकी पहलुओं पर ध्यान केंद्रित किया. बातचीत सार्थक रही है. अगले कदम पर विचार-विमर्श के लिए मैं वापस वाशिंगटन लौट रहा हूं.’ उन्होंने इससे पहले अपने एक ट्वीट में यह भी लिखा, ‘उम्मीद करता हूं कि अफगानिस्तान में युद्ध के माहौल में यह आखिरी ईद होने वाली है.’

उधर, तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्ला मुजाहिद ने जानकारी देते हुए कहा कि दोहा में चल रही आठवें दौर की वार्ता बीती मध्य रात के बाद संपन्न हो गयी. उन्होंने अपने एक ट्वीट में लिखा, ‘काम काफी कठिन था. दोनों पक्ष अगले कदमों के लिए अपने-अपने संबंधित नेतृत्व से विचार-विमर्श पर सहमत हुए हैं.’