कांग्रेस की तमिलनाडु इकाई ने अभिनेता रजनीकांत को सलाह दी है कि वे हिंदू ग्रंथ महाभारत को अच्छी तरह से पढ़ें. रजनीकांत ने धारा 370 हटाने के केंद्र सरकार के फैसले की प्रशंसा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की तुलना कृष्ण और अर्जुन से की थी. इसी को लेकर तमिलनाडु कांग्रेस ने तमिल फिल्मों के सुपरस्टार पर निशाना साधा है.

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक तमिलनाडु में कांग्रेस समिति के अध्यक्ष केएस अलागिरी ने कहा कि उन्हें रजनीकांत से इस तरह के बयान की उम्मीद नहीं थी. उन्होंने कहा कि वे रजनीकांत की इस प्रतिक्रिया से हैरान हैं. अलागिरी ने कहा, ‘मोदी और शाह की जोड़ी कृष्ण और अर्जुन नहीं है. करोड़ों लोगों के अधिकार छीनने वाले कृष्ण और अर्जुन कैसे हो सकते हैं? प्रिय रजनीकांत, कृपया महाभारत को ठीक से पढ़िए.’

खबर के मुताबिक अलागिरी ने कहा कि पूर्वोत्तर के राज्यों की तरह पहले कश्मीर को भी विशेष राज्य का दर्जा प्राप्त था. कांग्रेस नेता ने कहा कि बाकी राज्यों को मिला विशेष दर्जा भी क्यों खत्म नहीं किया गया. केएस अलागिरी ने आरोप लगाया कि धारा 370 इसलिए खत्म कर दी गई ‘क्योंकि जम्मू-कश्मीर मुस्लिम बहुल राज्य है’. यह कहते हुए उन्होंने रजनीकांत से सवाल किया कि क्या वे ‘अमित शाह की तरह कश्मीर और बाकी राज्यों के लिए अलग-अलग न्याय’ वाली बात नहीं कर रहे.