क्रिकेट विश्व कप का फाइनल मैच सुर्खियों में लौट आया है. खबर है कि एमसीसी वर्ल्ड क्रिकेट कमेटी (डब्ल्यूसीसी) इस मैच के फाइनल ओवर में हुई उस विवादित घटना की अगले महीने समीक्षा करेगी जिसके चलते यह मैच सुपरओवर में गया और इंग्लैंड विजेता बना. डब्ल्यूसीसी ने सोमवार को एक बैठक में यह फैसला किया. जिस पैनल ने यह फैसला लिया उसमें शेन वॉर्न और कुमार संगकारा जैसे दिग्गज मौजूद हैं.

लार्ड्स पर 14 जुलाई को खेले गए फाइनल का सबसे बड़ा टर्निंग प्वाइंट आखिरी ओवर का एक ओवरथ्रो था. यह घटना न्यूजीलैंड के गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट के अंतिम ओवर की चौथी गेंद पर हुई थी. दूसरा रन पूरा करने की कोशिश में इंग्लैंड के बल्लेबाज बेन स्टोक्स कूद गए थे और डीप मिडविकेट से फेंकी गई गेंद उनके बल्ले से टकराकर थर्ड मैन बाउंड्री पर चार रन के लिए चली गई थी. भाग कर लिए दो रन और ओवरथ्रो की बाउंड्री से स्टोक्स को छह रन दिए गए जबकि कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि पांच ही रन दिए जाने चाहिए थे. ऐसी स्थिति में इंग्लैंड को न्यूजीलैंड के खिलाफ एक रन से हार का सामना करना पड़ता जिसने आठ विकेट पर 241 रन बनाए थे.

मसले पर जब तीखा विवाद हुआ तो आईसीसी ने इंग्लैंड को ओवरथ्रो के पांच के बजाय छह रन देने के विवादित फैसले पर फील्ड अंपायर कुमार धर्मसेना का बचाव किया था. उसने कहा कि छह रन देने में सही प्रक्रिया का पालन किया गया था. हालांकि धर्मसेना ने माना कि उनसे निर्णय लेने में चूक हुई थी. अब क्रिकेट प्रेमियों की नजरें अगले महीने होने वाली डब्ल्यूसीसी की बैठक पर रहेंगी.