खुदरा महंगाई जुलाई में घटकर 3.15 प्रतिशत पर आ गई है. सरकार द्वारा जारी आंकड़े के अनुसार उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित खुदरा महंगाई दर जून में 3.18 फीसद थी और पिछले साल जुलाई में यह 4.17 प्रतिशत थी.

हालांकि, इस दौरान खाद्य वस्तुओं की कीमत में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है. केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय के आंकड़े के अनुसार खाद्य वस्तुओं की महंगाई दर जुलाई में 2.36 प्रतिशत रही जो इससे पूर्व महीने में 2.25 प्रतिशत से थोड़ा अधिक है. फिलहाल खुदरा मुद्रास्फीति आरबीआई के संतोषजनक स्तर से नीचे है. केंद्रीय बैंक खुदरा महंगाई दर 4 प्रतिशत के दायरे में रखने का लक्ष्य रखता है. रिजर्व बैंक अपनी द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा करते समय मुख्य रूप से खुदरा मुद्रास्फीति पर नजर रखता है. खुदरा महंगाई काफी दिनों से चार फीसद के नीचे है और इस दौरान रिजर्व बैंक चार बार ब्याज दरों में कटौती कर चुका है.