पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता की एक अदालत ने मंगलवार को कांग्रेस सांसद शशि थरूर के खिलाफ गिरफ्तारी वॉरंट जारी किया. यह अदालती कार्रवाई शशि थरूर के उस बयान को लेकर की गई है, जिसमें उन्होंने कहा था कि भाजपा फिर से सत्ता में आई तो यह पार्टी फिर से संविधान लिखेगी और एक ‘हिंदू पाकिस्तान’ के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करेगी. शशि थरूर के इस कथित बयान से विवाद पैदा हो गया था. भाजपा ने मांग की थी कि कांग्रेस नेता इस बयान के लिए माफी मांगें.

पीटीआई के मुताबिक मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट (सीएमएम) दिपंजन सेन ने वकील सुमित चौधरी की याचिका पर थरूर के खिलाफ वॉरंट जारी किया. याचिकाकर्ता ने दावा किया है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री ने धार्मिक आधार पर लोगों के विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने के लिए जानबूझकर यह काम किया. सुमित चौधरी ने कहा कि मंगलवार की सुनवाई के दौरान किसी भी वकील ने अदालत में थरूर का प्रतिनिधित्व नहीं किया. उनके मुताबिक इसी के बाद कांग्रेस सांसद के खिलाफ वॉरंट जारी किया गया. इस मामले पर अगली सुनवाई 24 सितंबर को होगी.