‘मालिक जम्मू-कश्मीर कब आऊं?’

— राहुल गांधी, कांग्रेस के नेता

राहुल गांधी ने यह बात एक ट्वीट के जरिये जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक पर तंज कसते हुए कही. इसी ट्वीट से उन्होंने यह भी कहा, ‘प्रिय मालिक जी, मैंने अपने ट्वीट पर आपका कमजोर जवाब देखा. मुझे जम्मू-कश्मीर आने और लोगों से मिलने का आपका निमंत्रण बिना किसी शर्त के मंजूर है. मैं कब आ सकता हूं.’ वहीं सत्यपाल मलिक ने इस पर प्रतिकिया देते हुए कहा, ‘कश्मीर दौरे को लेकर जवाब देने में आपने चार दिन लगा दिए. स्थानीय प्रशासन सुविधाजनक समय पर आपसे संपर्क करेगा.’ इससे पहले राहुल गांधी की एक टिप्पणी पर मलिक ने उन्हें जम्मू-कश्मीर का दौरा करवाने के लिए विमान भेजने की बात कही थी.

‘धारा 370 हटाने का विरोध वह लोग कर रहे हैं जिनका दिल माओवादियों और आतंकवादियों के लिए धड़कता है.’

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी ने यह बात एक इंटरव्यू के दौरान कही. इसके साथ ही उन्होंने जम्म-कश्मीर को लेकर किए फैसलों को ‘राष्ट्रहित’ में उठाया गया कदम भी बताया. उन्होंने कहा, ‘आज हर भारतीय जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों के साथ खड़ा है. हमें पूरा यकीन है कि राज्य में अमन और विकास का लक्ष्य हासिल करने के लिए हमें उनका भरपूर सहयोग मिलेगा.’ इस मौके पर नरेंद्र मोदी ने यह दावा भी किया कि उनकी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के पहले 75 दिनों में स्पष्ट नीति और सही दिशा से एक अभूतपूर्व रफ्तार हासिल की है.


‘अगर कश्मीर के लोग खुश हैं तो वहां इमरजेंसी जैसे हालात क्यों हैं?’

— असदुद्दीन ओवैसी, ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख

असुदुद्दीन ओवैसी ने यह बात एक कार्यक्रम के दौरान नरेंद्र मोदी और उनकी अगुवाई वाली केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘केंद्र की मौजूदा सरकार को कश्मीरियों से नहीं बल्कि कश्मीर की जमीन से प्यार है. साथ ही मौजूदा सरकार ने केंद्र की सत्ता में बने रहने के लिए धारा 370 के ज्यादातर प्रावधान निष्क्रिय किए हैं.’ इसके साथ ही असदुद्दीन ओवैसी का यह कहा, ‘मैं नरेंद्र मोदी को याद दिलाना चाहता हूं कि कोई व्यक्ति अनंतकाल तक जीवित नहीं रह सकता और न ही शासन कर सकता है.’


‘पाकिस्तान के लोग कश्मीर की आजादी के लिए लड़ने को तैयार हैं.’

— इमरान खान, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री

इमरान खान ने यह बात पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में दिए भाषण के दौरान कही. इस मौके पर उन्होंने जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लेने के भारत सरकार के फैसले को ‘रणनीतिक भूल’ बताया. साथ ही कहा, ‘भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपना आखिरी रणनीतिक कार्ड खेला है जो भारत को बहुत महंगा पड़ेगा.’ इमरान खान ने आगे कहा, ‘आज विश्व समुदाय कश्मीर को लेकर चुप है. लेकिन मैं शपथ लेता हूं कि मैं कश्मीर का दूत बनूंगा और इस मुद्दे को दुनिया के हर मंच पर उठाऊंगा.’


‘भारत-चीन अब विकासशील देश नहीं इसलिए इन्हें डब्ल्यूटीओ से लाभ नहीं लेने देंगे.’

— डोनाल्ड ट्रंप, अमेरिका के राष्ट्रपति

डोनाल्ड ट्रंप ने यह बात अमेरिकी उत्पादों पर भारत की तरफ से अधिक शुल्क और चीन के साथ चल रहे अपने ‘व्यापार युद्ध’ के मद्देनजर कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘एशिया की इन दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं को मिला यह दर्जा अमेरिका का नुकसान कर रहा है.’