जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की बेटी इल्तिजा जावेद ने एक वॉइस मैसेज के जरिये बताया है कि उन्हें उनके ही घर में हिरासत में ले लिया गया है. इल्तिजा ने गृह मंत्री अमित शाह को भी लिखा है कि उन्हें मीडिया से बात करने पर गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी गई है. एनडीटीवी के मुताबिक मैसेज में महबूबा मुफ्ती की बेटी ने लिखा, ‘कश्मीरियों को जानवरों की तरह बंद कर मानवाधिकारों से वंचित कर दिया गया है.’

पिछले 12 दिनों से कश्मीर पूरी तरह बंद है और सेना की निगरानी में है. कई बड़े नेताओं को गिरफ्तार किया गया है. इनमें जम्मू-कश्मीर के दोनों पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला शामिल हैं. वहीं, इल्तिजा जावेद को लेकर कहा जा रहा है कि उन्हें मीडिया से बात करने के बाद हिरासत में लिया गया है. गृह मंत्री को लिखे पत्र में इल्तिजा ने कहा है कि उन्हें नहीं पता चला कि उनसे मिलने आए लोगों को कब दरवाजे से लौटा दिया गया और उनके बाहर निकलने पर रोक लगा दी गई.

खबर के मुताबिक मैसेज में इल्तिजा ने कहा, ‘क्या दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में एक नागरिक को ऐसे अकल्पनीय दमन में भी बोलने का हक नहीं है. यह भयंकर विडंबना है कि सच कहने के लिए मेरे साथ युद्ध अपराधी जैसा सुलूक किया जा रहा है.’ इससे पहले भेजे वॉइस मैसेज में इल्तिजा जावेद ने कहा था कि उनकी मां महबूबा मुफ्ती को एकांत कारावास में रखा गया जहां उनके साथ कोई भी वकील या पार्टी का कार्यकर्ता नहीं है.