रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को कहा कि पाकिस्तान के साथ बातचीत तब तक संभव नहीं है जब तक वह आतंकवाद को बढ़ावा देना बंद नहीं करता है. राजनाथ सिंह ने कहा कि अगर पाकिस्तान से बातचीत होगी तो केवल पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) पर होगी. राजनाथ सिंह ने यह बात हरियाणा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कही.

राजनाथ सिंह ने रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘अगर पाकिस्तान के साथ किसी तरह की वार्ता होनी है तो उसे आतंकवाद को सहयोग करना और प्रोत्साहित करना बंद करना होगा.’ उन्होंने कहा, ‘अब पाकिस्तान हर दरवाजे को खटखटा रहा है और खुद को बचाने के लिए विभिन्न देशों से सहयोग मांग रहा है. हमने क्या अपराध किया है? हमें क्यों धमकी दी जा रही है? बहरहाल, दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका ने पाकिस्तान को झिड़क दिया है और उसे भारत के साथ वार्ता शुरू करने के लिए कहा है.’ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सवाल किया कि हम उनसे किस मुद्दे पर बात करें और क्यों करें? उन्होंने आगे कहा, ‘अगर पाकिस्तान के साथ बातचीत होती है तो यह पीओके (पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर) पर होगी न कि किसी अन्य मुद्दे पर.’

संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने के बारे में राजनाथ सिंह ने कहा कि इस कदम से पड़ोसी देश कमजोर हुआ है और यह उनके लिए चिंता का कारण बन गया है. उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान आतंकवाद का इस्तेमाल कर हमारे देश को तोड़ना चाहता था. लेकिन हमारे 56 ईंच के सीने वाले प्रधानमंत्री ने देश को दिखा दिया है कि निर्णय कैसे किया जाता है.’