आस्ट्रेलियाई क्रिकेट संघ (एसीयू) ने जोफ्रा आर्चर के बाउंसर से पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ के गर्दन पर चोट लगने के बाद हुई हूटिंग की आलोचना करते हुए कहा कि खेल में अच्छे आचरण की जरूरत है.

लार्ड्स में खेले जा रहे इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के टेस्ट मैच के दौरान इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर की एक गेंद पर ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्टीव स्मिथ घायल हो गए थे. स्टार ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्टीव स्मिथ जब 80 रन पर थेे, तभी इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर की 92.3 मील प्रति घंटे की रफ्तार से की गयी गेंद उनकी गर्दन और सिर के बीच वाले हिस्से में जा लगी. इसके बाद स्टीव स्मिथ मुंह के बल नीचे गिर गये. आस्ट्रेलियाई टीम के चिकित्सक रिचर्ड सॉ के साथ लंबी बातचीत के बाद स्टीव स्मिथ रिटायर्ड हर्ट होने का फैसला किया. जब वह मैदान पर वापस लौट रहे थे तब कुछ दर्शकों ने उनकी हूटिंग की.

आस्ट्रेलियाई क्रिकेट संघ (एसीयू) ने हूटिंग की आलोचना करते हुए कहा कि चोटिल खिलाड़ी के साथ ऐसा आचरण गलत है. एसीए के अध्यक्ष ग्रेग डायर और मुख्य कार्यकारी अधिकारी एलिस्टर निकोलसन ने संयुक्त बयान जारी कर कहा, ‘क्रिकेट में इससे कहीं बेहतर आचरण की अपेक्षा की जाती है. लार्ड्स को क्रिकेट का मक्का कहा जाता है, वहां इससे काफी बेहतर आचरण होना चाहिए था.’

हालांकि, रिटायर्ड हर्ट होने के बाद स्टीव स्मिथ सिर्फ 46 मिनट तक मैदान से बाहर रहे. पीटर सिडल के आउट होने पर स्टीव स्मिथ फिर से क्रीज पर आए. लेकिन, जब वह 92 पर थे तब वह पगबाधा आउट हो गए. गेंद से छेड़छाड़ मामले में एक साल की प्रतिबंध झेलने के बाद स्मिथ की यह पहली टेस्ट श्रृंखला है. मैच के दौरान जिस समय स्टीव स्मिथ चोटिल हुए उस समय उन्होंने जो हेलमेट पहन रखा था उसमें गर्दन के बचाव की सुविधा नहीं थी. हेलमेट में इस तरह की व्यवस्था फिलिप ह्यूज की 2014 में सिडनी में एक घरेलू मैच में बाउंसर लगने से हुई मौत के बाद की गयी थी. इस हादसे के बाद क्रिकेट विशेषज्ञ में यह चर्चा भी जोर पकड़ रही है कि मैच के दौरान गर्दन की सुरक्षा वाले हेलमेट पहनने को अनिवार्य कर देना चाहिए.