हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता भूपिंदर सिंह हुड्डा ने अपनी ही पार्टी के खिलाफ खुल कर मोर्चा खोल दिया है. रविवार को उन्होंने भावी विधानसभा चुनावों के लिए खुद को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया. हरियाणा के रोहतक जिले में एक रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने धारा 370 को लेकर कांग्रेस की आलोचना भी की. उनकी पार्टी ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाली धारा 370 को हटाए जाने का विरोध किया है. इस पर हुड्डा ने कहा कि कांग्रेस अपने मार्ग से भटक गई है. पूर्व मुख्यमंत्री के मुताबिक मौजूदा कांग्रेस अब पुरानी कांग्रेस नहीं रह गई है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक हुड्डा ने कहा, ‘आज मैं यहां अपने मन से, अपनी आत्मा से और अपनी सारी पाबंदियों से मुक्त होकर आपके सामने आपकी लड़ाई लड़ने आया हूं... मेरी चार पीढ़ियां कांग्रेस में रहीं. लेकिन सरकार कोई ठीक काम करती है, चाहे केंद्र की हो या हरियाणा की, मैं उसके ठीक कहता हूं. अब (धारा) 370 इन्होंने हटाई. बहुत सारे मेरे साथियों ने भी उसका विरोध किया. मेरी पार्टी भी कुछ भटक गई. वह पहले वाली कांग्रेस नहीं है. लेकिन जहां तक देशभक्ति का और स्वाभिमान का सवाल है, मैं किसी से समझौता नहीं करूंगा. इसी वास्ते मैंने (धारा) 370 (से जुड़े मोदी सरकार के फैसले) का समर्थन किया.’

हरियाणा में अक्टूबर में विधानसभा चुनाव होंगे. उससे पहले भूपिंदर सिंह हुड्डा के समर्थक उन्हें हरियाणा कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने को लेकर कांग्रेस आलाकमान पर दबाव डाल रहे हैं. इनमें हरियाणा में कांग्रेस के कुल 15 विधायकों में से 12 विधायक भी शामिल हैं. हूडा का कहना है कि वे इस मुद्दे पर एक 25 सदस्यीय समिति का गठन करेंगे जिनमें ये 12 विधायक भी शामिल होंगे. कांग्रेस नेता ने कहा कि अगले एक हफ्ते में समिति तय करेगी कि आगे क्या करना है.