मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने भांजे रतुल पुरी की गिरफ्तारी को लेकर अपनी तरफ से सफाई दी है. कमलनाथ ने कहा है कि उनका रतुल पुरी के व्यवसाय से कोई लेना-देना नहीं है. इसके साथ ही पत्रकारों से बातचीत में कमलनाथ ने यह भी कहा, ‘उनके (रतुल पुरी) व्यवसाय में मैं न तो शेयरधारक हूं और न ही निदेशक. मुझे यह विशुद्ध रूप से दुर्भावनापूर्ण रवैये के साथ की गई कार्रवाई महसूस होती है. मुझे पूरा भरोसा है कि कोर्ट इस पर उचित फैसला करेगा.’

इससे पहले मंगलवार को ही प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रतुल पुरी को गिरफ्तार कर लिया था. यह गिरफ्तारी सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया से जुड़े 354 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में की गई थी. इसके तीन दिन पहले केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने रतुल पुरी, उनकी कंपनी और उनके पिता दीपक पुरी के खिलाफ आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी, जालसाजी और भ्रष्टाचार के आरोपों के तहत भी मामला दर्ज किया था.

इसके अलावा रतुल पुरी 3,600 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदा मामले में भी जांच के घेरे में हैं. इस मामले में ईडी रतुल पुरी से कई मौकों पर पूछताछ कर चुकी है. वहीं इस मामले में गिरफ्तारी की संभावना देखते हुए रतुल पुरी ने बीते महीने अग्रिम जमानत की याचिका लगाई थी जिस पर उन्हें राहत देते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी पर 20 अगस्त यानी आज तक के लिए रोक लगा दी थी. उधर, ईडी ने अगस्ता वेस्टलैंड मामले में रतुल पुरी के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किए जाने के लिए अदालत का रुख किया है.