कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत के आरक्षण को लेकर दिए बयान पर निशाना साधा है. एक ट्वीट के जरिये उन्होंने कहा है, ‘आरएसएस का हौसला बढ़ा हुआ है और मंसूबे खतरनाक हैं. जिस समय भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार एक-एक करके जन पक्षधर कानूनों का गला घोंट रही हैं आरएसएस ने लगे हाथ आरक्षण पर बहस करने की बात उठा दी है.’ प्रियंका गांधी ने आगे कहा, ‘बहस तो शब्दों का बहाना है मगर आरएसएस-भाजपा का असली निशाना सामाजिक न्याय है. लेकिन क्या आप ऐसा होने देंगे?’

इससे पहले इसी रविवार को एक कार्यक्रम में मोहन भागवत ने आरक्षण का मुद्दा उठाया था. साथ ही कहा था, ‘जो लोग आरक्षण के पक्ष में हैं और जो इसके खिलाफ हैं, उन्हें सौहार्दपूर्ण वातावरण में इस पर विचार-विमर्श करना चाहिए.’

वहीं इसी सोमवार भागवत के उस बयान की बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने भी आलोचना की थी. तब एक ट्वीट के जरिये उन्होंने आरक्षण को लेकर दिए उनके बयान को ‘संदेह की घातक स्थिति’ पैदा करने वाला बताया था और कहा था कि इस पर बहस की जरूरत नहीं है. बसपा अध्यक्ष का यह भी कहना था कि आरक्षण मानवतावादी संवैधानिक व्यवस्था है जिससे छेड़छाड़ करना अनुचित और अन्याय होगा.