राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद को आज जम्मू एयरपोर्ट पर रोके जाने के बाद वापस दिल्ली के लिए रवाना कर दिया गया. खबरों के मुताबिक गुलाम नबी आजाद आज करीब तीन बजे जम्मू एयरपोर्ट पर उतरे थे लेकिन स्थानीय प्रशासन ने उन्हें एयरपोर्ट पर ही हिरासत में ले लिया. इसके बाद उन्हें न तो उनके घर और न ही जम्मू स्थित कांग्रेस कार्यालय में आयोजित होने वाली प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में ही भाग लेने की अनुमति दी गई.

इधर, अगस्त के महीने में यह दूसरा मौका है जब गुलाम नबी आजाद को जम्मू-कश्मीर के हवाईअड्डों से ही दिल्ली के लिए वापस लौटा दिया गया. इससे पहले धारा 370 और जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने संबंधी प्रस्तावों के संसद में पास होने के बाद आठ अगस्त को गुलाम नबी आजाद श्रीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरे थे. लेकिन उस वक्त भी स्थानीय प्रशासन ने उन्हें वहां से आगे जाने की अनुमति नहीं दी थी और उन्हें वापस दिल्ली के लिए रवाना करवा दिया था.

उस दौरान आजाद धारा 370 के अधिकांश प्रावधानों को हटाने और जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करने वाले थे. वहीं दिल्ली लौटाए जाने के बाद उन्होंने धारा 370 और राज्य के बंटवारे को लेकर किए केंद्र सरकार के फैसले की कड़ी आलोचना की थी. तब उनका यह भी कहना था कि सरकार ने कश्मीर को खत्म कर दिया है और इस वजह से वहां सन्नाटा पसरा हुआ है.

इसके बाद जब बीते दिनों राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ​दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले में कुछ स्थानीय लोगों के साथ बातचीत करते और दोपहर का खाना खाते दिखे तो उस पर भी आजाद ने तीखी टिप्पणी की थी. तब उन्होंने कहा था कि पैसे देकर आप किसी को भी अपने साथ ले सकते हैं.