जम्मू-कश्मीर को ले​कर हाल में किए भारत सरकार के फैसलों को पाकिस्तान की तरफ से अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) में ले जाने की घोषणा पर सैयद अकबरुद्दीन ने पलटवार किया है. संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनि​धि ने कहा कि भारत अपने क्षेत्रीय प्रतिद्वंद्वी की मर्जी के मुताबिक किसी भी मैदान में उसकी चुनौती का मुकाबला करने को तैयार है. इसके साथ ही सैयद अकबरुद्दीन ने यह भी कहा, ‘हर देश को उसके पास मौजूद रास्ता चुनने का अधिकार है. अगर वे (पाकिस्तान) हमसे अलग-अलग मैदानों में निपटना चाहते हैं तो हम उनके चुने मैदानों में ही उन्हें जवाब देंगे.’ पाकिस्तान की तरफ से कश्मीर मसले को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उठाए जाने पर भी उन्होंने प्रतिक्रिया दी. सैयद अकबरुद्दीन का कहना था, ‘ये भी उन्हीं (पाकिस्तान) की पसंद का मैदान था. उन्होंने एक बार कोशिश की लेकिन नाकाम रहे.’

इससे पहले इसी मंगलवार को पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि उनके देश ने कश्मीर मामले को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उठाने का फैसला किया है. उनका कहना था, ‘ये फैसला सभी कानूनी पहलुओं पर विचार-विमर्श के बाद किया गया है.’ इसके अलावा पाकिस्तान ने बीते हफ्ते चीन की मदद से कश्मीर का मुद्दा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भी उठाया था. तब परिषद के ज्यादातर सदस्यों ने भारतीय पक्ष का समर्थन करते हुए इसे द्विपक्षीय मुद्दा बताया था.