आईएनएक्स मीडिया मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की मुश्किलें बढ़ने के बाद उनकी पार्टी के नेता उनके समर्थन में उतर आए हैं. इस दौरान राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर केंद्रीय जांच एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगाया है. एक ट्वीट के जरिये उन्होंने कहा है, ‘पी चिदंबरम के चरित्र हनन के लिए मोदी सरकार प्रवर्तन निदेशालय (ईडी), केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और रीढ़विहीन मीडिया का इस्तेमाल कर रही है. मैं सत्ता के इस दुरुपयोग की कड़ी निंदा करता हूं.’

वहीं बुधवार को ही राहुल गांधी से पहले उनकी बहन और कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने भी चिदंबरम के समर्थन में एक ट्वीट करके उन्हें राज्यसभा का एक अत्यंत योग्य और सम्मानित सदस्य बताया था. साथ ही यह भी कहा था, ‘पी चिदंबरम जी ने वित्त और गृह मंत्री के तौर पर दशकों तक निष्ठा के साथ देश की सेवा की है. वे पूरी दृढ़ता के साथ सच बोलते हैं और सरकार की विफलताओं को उजागर करते हैं. लेकिन कायरों के लिए सच्चाई असुविधाजनक है. इसीलिए उन्हें शर्मनाक तरीके से शिकार बनाया जा रहा है.’ इसी ट्वीट से कांग्रेस महासचिव ने आगे कहा, ‘हम उनके साथ खड़े हैं और सच्चाई के लिए लड़ते रहेंगे, इसके परिणाम चाहे जो कुछ भी हों.’

इससे पहले इसी मंगलवार दिल्ली हाईकोर्ट ने आईएनएक्स मीडिया मामले में पी चिदंबरम को बड़ा झटका देते हुए उनकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी. इसके बाद से ही उन पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है. इधर, बुधवार को उनके वकीलों ने इस मामले में उन्हें राहत दिलाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया. लेकिन शीर्ष अदालत ने इस पर तत्काल सुनवाई से इनकार कर दिया. अब गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई इस मामले की लिस्टिंग पर सुनवाई करेंगे.

इस दौरान ईडी ने पी चिदंबरम के खिलाफ नया लुकआउट नोटिस जारी किया है. साथ ही सड़क, हवाई और समुद्री मार्ग की जिम्मेदारी संभालने वाली एजेंसियों को ईडी की इजाजत के बगैर उन्हें भारत की सीमा से बाहर नहीं जाने देने का निर्देश दिया है.