पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बुधवार रात उनके घर से गिरफ्तार कर लिया. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. इससे पहले उन्होंने कांग्रेस मुख्यालय पहुंचकर कर आईएनएक्स मीडिया मामले में खुद को निर्दोष बताया. उन्होंने कहा कि इस मामले में उनके ऊपर कोई आरोप नहीं हैं. वहीं, सीबीआई के प्रवक्ता ने बताया कि पी चिदंबरम को सीबीआई मुख्यालय में बने अतिथि गृह में रखा गया है. बताया जाता है कि देर रात अधिकारियों की टीम उनसे पूछताछ करती रही. सीबीआई गुरुवार को उन्हें अदालत में पेश करेगी.

उधर, दक्षिणी दिल्ली के तुगलकाबाद क्षेत्र में संत रविदास का एक मंदिर गिराए जाने के विरोध में आयोजित प्रदर्शन के हिंसक होने की खबर भी अखबारों की प्रमुख सुर्खियों में शामिल है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने 10 अगस्त को संत रविदास का मंदिर गिरा दिया था. बुधवार को दलित प्रदर्शनकारियों ने उस स्थल तक मार्च किया और इस दौरान एक समूह हिंसक हो गया. बताया जाता है कि प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों के साथ तोड़-फोड़ की. पुलिस को इन्हें नियंत्रित करने के लिए लाठी चार्ज करना पड़ा. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को राजनीतिक रंग न देने की अपील की थी.

बिहार : पूर्व मुख्यमंत्री के अंतिम संस्कार के दौरान गार्ड ऑफ ऑनर में एक भी राइफल से गोली नहीं चली

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मिश्र का बुधवार को सुपौल में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया. लेकिन, इस दौरान बिहार पुलिस को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा. दैनिक जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक जब डॉ. जगन्नाथ मिश्र को गार्ड ऑफ ऑनर दिया जा रहा था, तब 22 पुलिसकर्मियों में से एक की भी राइफल से गोली नहीं चली. इस मौके पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मौजूद थे. कोसी क्षेत्र के डीआआईजी सुरेश चौधरी ने इस मामले की जांच की बात कही है. साथ ही, उन्होंने कहा कि दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. बताया जाता है कि गार्ड ऑफ ऑनर देने के लिए ब्लैंक कार्टेज का उपयोग होता है. इसमें छर्रा नहीं होता बल्कि, केवल बारूद भरा होता है, जिससे आवाज निकलती है. इसकी सप्लाई पुलिस विभाग में अलग से की जाती है. अखबार ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि काफी दिनों से पुलिस को ब्लैंक कार्टेज की सप्लाई नहीं की गई है. पुरानी सप्लाई को ही सुरक्षित रखकर उसका इस्तेमाल किया जा रहा है.

भारी बिकवाली के बीच विदेशी निवेशकों को राहत देने की कोशिश

शेयर बाजार नियामक संस्था सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) ने विदेशी निवेशकों को राहत देने की कोशिश की है. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक सेबी ने बुधवार को विदेशी पोर्टफोलियो निवेश (एफपीआई) के लिए रजिस्ट्रेशन प्रोसेस को सरल बनाया है. इसके तहत व्यापक योग्यता शर्तों को खत्म कर दिया गया है. साथ ही, निवेशकों की जोखिम आधारित कैटेगरी को भी तीन से घटाकर दो कर दिया गया है. बताया जाता है कि चालू वित्तीय वर्ष (2019-20) के बजट में अमीरों पर टैक्स सरचार्ज बढ़ाया गया था. इसकी चपेट में करीब 40 फीसदी एफपीआई भी आ गए थे. इससे नाराज विदेशी निवेशकों ने बीते दो महीने में काफी बिकवाली की यानी शेयर बाजार से अपने पैसे निकाल लिए. वहीं, सेबी के अध्यक्ष अजय त्यागी ने पब्लिक शेयरहोल्डिंग को 25 से बढ़ाकर 35 फीसदी करने पर भी आशंका जाहिर की है. उनका कहना है कि इसके चलते कंपनियों को अपने काफी शेयर बेचने पड़ेंगे.

सीबीआई ने प्रणय रॉय सहित अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नियमों में उल्लंघन को लेकर एनडीटीवी समूह के प्रमुख प्रणय रॉय, उनकी पत्नी राधिका रॉय और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है. अमर उजाला में छपी खबर के मुताबिक यह मामला साल 2007 से 2009 के बीच विदेशी निवेश से जुड़ा हुआ है. सीबीआई ने इस मामले की जांच साल 2016 में शुरू की थी. बताया जाता है कि जांच एजेंसी ने बुधवार को एनडीटीवी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) विक्रमादित्य चंद्रा के घर छापामारी की थी. वहीं, एनडीटीवी ने इन आरोपों को दुर्भावनापूर्ण और मनगढ़ंत बताया है.

अनुच्छेद- 370 निष्प्रभावी होने के बाद पहली बार सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़

जम्मू-कश्मीर में संविधान के अनुच्छेद-370 के निष्प्रभावी होने के बाद मंगलवार देर रात सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच कश्मीर घाटी में पहली बार मुठभेड़ हुई है. राजस्थान पत्रिका के मुताबिक यह मुठभेड़ कश्मीर घाटी के बारामूला जिले में हुई. इसमें सुऱक्षाबलों ने स्थानीय आतंकी मोमिन गुर्जरी को मार गिराया. इस दौरान राज्य पुलिस के एसपीओ बिलाल शहीद हो गए. वहीं, दो अन्य सुरक्षाकर्मी घायल हो गए. इनका श्रीनगर के सेना अस्पताल में इलाज चल रहा है. पाकिस्तान ने कश्मीर घाटी में बदलते माहौल को देखते हुए नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर सैनिकों की तैनाती बढ़ा दी है.

ग्रीनलैंड बेचने से इनकार के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने डेनमार्क का दौरा रद्द किया

डेनमार्क के ग्रीनलैंड को बेचने से इनकार करने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने वहां का अपना दौरा रद्द कर दिया है. हिन्दुस्तान में प्रकाशित खबर के मुताबिक उन्होंने इसकी जानकारी एक ट्वीट के जरिये दी. डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, ‘प्रधानमंत्री मेटे को ग्रीनलैंड को बेचने में कोई दिलचस्पी नहीं है, इसलिए मैं उनके साथ मुलाकात को स्थगित करता हूं.’ वहीं, इससे पहले डेनमार्क के प्रधानमंत्री मेटे फ्रेडरिक्शन ने इससे इनकार कर दिया था. उन्होंने इसे बकवास विचार बताया. मेटे फ्रेडरिक्शन ने कहा, ‘यह द्वीप व्यापार करने के लिए खुला है. लेकिन बिकाऊ नहीं है. ग्रीनलैंड डेनमार्क की संपत्ति नहीं है. ग्रीनलैंड सिर्फ ग्रीनलैंड के लोगों का है. मैं उम्मीद करती हूं कि इसे खरीदने के प्रस्ताव में कोई गंभीरता नहीं होगी.’