सीबीआई की विशेष अदालत ने पूर्व वित्तमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम को 26 अगस्त तक सीबीआई की हिरासत में भेज दिया है. आज पी चिदंबरम को इस अदालत में पेश किया गया था और यहां सीबीआई ने उनकी पांच दिन की हिरासत मांगी थी. इस पर कांग्रेस नेता के वकील कपिल सिब्बल और सीबीआई के वकील सॉलीसिटर जनरल तुषार मेहता ने अपनी-अपनी दलीलें दी थीं. एएनआई के मुताबिक सुनवाई पूरी होने के बाद जज अजय कुमार कुहार ने चिदंबरम को अगले सोमवार तक सीबीआई हिरासत में भेजने का फैसला सुनाया.

इस अदालत में पेश किए जाने से पहले सीबीआई ने पू्र्व वित्तमंत्री से तीन घंटे तक पूछताछ की. पी चिदंबरम को कल रात उनके आवास से गिरफ्तार किया गया था. वहीं कल ही सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें गिरफ्तारी से तुरंत राहत दिए जाने से इनकार करते हुए उनकी याचिका शुक्रवार के लिए सूचीबद्ध की थी.

पी चिदंबरम की यह गिरफ्तारी आईएनएक्स मीडिया मामले में हुई है. यह मामला 2007 का है. तब पी चिदंबरम ही वित्त मंत्री थे. इस मामले में सीबीआई ने 15 मई 2017 में प्राथमिकी दर्ज की थी. इसमें आरोप लगाया गया है कि 305 करोड़ रुपये के विदेशी निवेश के लिए आईएनएक्स को दी गई फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी में अनियमितताएं बरती गईं.

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने अपनी गिरफ्तारी टालने की हरसंभव कोशिश की. लेकिन पहले दिल्ली हाईकोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें तुरंत कोई राहत देने से इनकार कर दिया. इसके बाद सीबीआई की टीम दो बार पी चिदंबरम को खोजने दिल्ली स्थित उनके घर पहुंची थी, लेकिन वे वहां नहीं मिले. फिर उनके खिलाफ एक और लुकआउट नोटिस जारी किया गया. बुधवार शाम अचानक वे कांग्रेस मुख्यालय पहुंचे और आईएनएक्स मीडिया मामले में खुद को निर्दोष बताया. इसके बाद सीबीआई ने तेजी से कार्रवाई करते हुए पी चिदंबरम को उनके घर से गिरफ्तार कर लिया.