पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने महान हॉकी खिलाड़ी बलबीर सिंह सीनियर को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न देने की मांग की है. इसके लिए गुरूवार को उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है.

पीटीआई के मुताबिक अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में 95 वर्षीय बलबीर सिंह को अपने दौर का लाजवाब खिलाड़ी बताया है.

उन्होंने पत्र में लिखा है, ‘मैं आपका ध्यान इस विषय की ओर इंगित कराना चाहता हूं और अनुरोध करता हूं कि आजादी के बाद भारत के सबसे सम्मानजनक और असाधारण खिलाड़ी बलबीर सिंह सीनियर को भारत रत्न से नवाजा जाये.’

पंजाब के मुख्यमंत्री ने पत्र में आगे लिखा, ‘श्री बलबीर सिंह सीनियर हॉकी के महान खिलाडियों में शुमार हैं और ओलंपिक 1948, 1952 और 1956 में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य रहे हैं. वह 1956 ओलंपिक में भारतीय टीम के कप्तान भी थे...उनके इसी योगदान को देखते हुए उन्हें 1957 में पदमश्री से नवाजा गया. मैं आप से अनुरोध करता हूं कि भारत रत्न के लिये श्री बलबीर सिंह सीनियर के नाम पर गौर किया जाये.’

बलबीर सिंह सीनियर को अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने आधुनिक ओलंपिक इतिहास के 16 महानतम खिलाड़ियों में चुना था. ओलंपिक हॉकी फाइनल में सर्वाधिक गोल करने का उनका रिकार्ड आज तक कायम है. उन्होंने हेलसिंकी में 1952 में हुए ओलंपिक में नीदरलैंड के खिलाफ फाइनल में भारत की 6-1 से जीत में पांच गोल दागे थे. बलवीर सिंह 1975 विश्व कप विजेता भारतीय टीम के मैनेजर भी थे.