भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का निधन हो गया है. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक दिल्ली के एम्स अस्पताल ने कुछ देर पहले यह जानकारी दी. 66 वर्षीय अरुण जेटली काफी समय से किडनी और संक्रमणों की समस्या से जूझ रहे थे. बीती नौ अगस्त को उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया था. तब से उन्हें लगातार लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक आज दोपहर 12 बजकर सात मिनट पर अरुण जेटली ने अंतिम सांस ली.

अरुण जेटली की तबीयत शुक्रवार रात को ही बिगड़ गई थी. उस समय तक भी एम्स ने उनकी सेहत को लेकर कोई बुलेटिन जारी नहीं किया था. हालांकि पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया था कि पूर्व वित्त मंत्री की हालत नाजुक है और उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है.

इससे पहले बीती 19 अगस्त को खबर आई थी कि अरुण जेटली की हालत नाजुक है. वहीं, 16 अगस्त को केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने कहा था कि डॉक्टर अरुण जेटली को बचाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. इस साल मई में भी अरुण जेटली एम्स में भर्ती हुए थे. वहीं, पिछले साल इसी अस्पताल में उनकी किडनी का ऑपरेशन हुआ था. तब उन्होंने ट्वीट कर बताया था कि वे किडनी और कुछ संक्रमणों की समस्या से जूझ रहे हैं.

अरुम जेटली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में उनकी कैबिनेट का महत्वपूर्ण हिस्सा थे. उनके पास वित्त और रक्षा मंत्रालय का प्रभार था. सरकार के लिए वे संकटमोचक की भूमिका में रहे. पिछले साल 14 मई को एम्स में उनका किडनी ट्रांसप्लांट ऑपरेशन हुआ था. उस समय रेल मंत्री पीयूष गोयल को उनके वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गयी थी. खराब स्वास्थ्य के कारण अरुण जेटली ने 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था.