भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के निधन पर शोक संदेशों का सिलसिला जारी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके साथ दशकों पुराने अपने साथ को याद किया है. एक ट्वीट कर प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने अपना एक कीमती दोस्त खो दिया. एक अन्य ट्वीट में नरेंद्र मोदी कहा, ‘अरुण जेटली एक बहुआयामी व्यक्तित्व वाले शख्स होने के साथ संविधान, इतिहास, लोक नीति, शासन और प्रशासन के प्रखर ज्ञाता थे.’ प्रधानमंत्री मोदी ने अरुण जेटली के परिजनों से भी बात की.

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह ने भी अरुण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए इसे व्यक्तिगत क्षति बताया है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘अरुण जेटली जी के निधन से अत्यंत दुखी हूं, जेटली जी का जाना मेरे लिये एक व्यक्तिगत क्षति है. उनके रूप में मैंने न सिर्फ संगठन का एक वरिष्ठ नेता खोया है बल्कि परिवार का एक ऐसा अभिन्न सदस्य भी खोया है जिनका साथ और मार्गदर्शन मुझे वर्षों तक प्राप्त होता रहा.’

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने एक ट्वीट में कहा कि अरुण जेटली को अर्थव्यवस्था को निराशा के दौर से बाहर निकालने और वापस पटरी पर लाने के लिए हमेशा याद किया जाएगा. उनके शब्द हैं, ‘भाजपा में अरुण जी की कमी हमेशा खलेगी. मैं उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं.’ महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने अरुण जेटली को एक कद्दावर नेता बताया जिसने हमेशा अभावग्रस्त लोगों की मदद की.

विपक्षी कांग्रेस ने भी अरुण जेटली के निधन पर शोक जताया है. एक ट्वीट में पार्टी ने लिखा, ‘हमें अरुण जेटली जी के निधन के बारे में सुनकर बहुत दुख हुआ है. दुख की इस घड़ी में हमारी संवेदनाएं और प्रार्थनाएं उनके परिवार के साथ हैं.’ पार्टी मुखिया सोनिया गांधी ने एक बयान में कहा, ‘अरुण जेटली ने एक सार्वजनिक व्यक्तित्व, सांसद और मंत्री के रूप में लंबे समय तक सेवाएं दीं. सार्वजनिक जीवन में उनके योगदान को हमेशा याद किया जायेगा.’

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी जेटली के असमय निधन पर शोक व्यक्त करते हुए इसे देश के लिए बड़ी क्षति बताया. उन्होंने ट्वीट किया, ‘कानून विशेषज्ञ और एक अनुभवी राजनेता, जिन्हें उनके शासन कौशल के लिए पहचाना जाता था, देश उन्हें याद करेगा. दुख की इस घड़ी में हमारी संवेदनाएं एवं प्रार्थनाएं उनके परिवार के साथ हैं.’ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, ‘अरुण जेटली जी के निधन से बेहद दुखी हूं. एक बेहतरीन सांसद एवं बेमिसाल वकील, सभी दल उनका सम्मान करते थे.’

अरुण जेटली का कई सप्ताह से एम्स में इलाज चल रहा था, जहां उन्होंने आज दोपहर आखिरी सांस ली. वे 66 वर्ष के थे.