सुना है कि पी चिदंबरम की गिरफ्तारी रोकने के लिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उनके घर के चारों तरफ घेरा डाल रखा था, लेकिन यह कोई हैरानी की बात नहीं है. असल हैरानी की बात तो ये है कि कांग्रेस के पास अब भी कार्यकर्ता बचे हैं!


हम लोग तो हमेशा समझते थे कि चायवाला और पारले-जी बिस्किट एक ही बात हैं, लेकिन इस हफ्ते पता चला कि एक चायवाले ने पारले-जी की बिक्री ही घटवा दी!


नौकरियां इन दिनों भाग-भागकर युवाओं के पास जा रही हैं तभी तो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि युवाओं को नौकरियों के पीछे नहीं भागना चाहिए.


सप्ताह का कार्टून :

स्रोत : कप्तान की फेसबुक पोस्ट से

मोदी सरकार के दौरान अर्थव्यवस्था की हालत इतनी खराब हो गई है कि इस बार कहीं हम लोगों को अपने पोस्टमैन और माली से ही बख्शीस न लेनी पड़ जाए!


चिदंबरम प्रकरण देखकर कहा जा सकता है कि जब मामला सच में कानून के सम्मान का होता है तो मंत्री रह चुके कानूनविद भी गली के चोर-उचक्कों की तरह कानून से मुंह छिपाकर भागते नजर आते हैं.


चिदंबरम सच्चे हिंदू राजनेता हैं, तभी तो उन्होंने उन्होंने कृष्ण जन्माष्टमी कारागार में मनाई है!