कर्नाटक में फोन टैपिंग के आरोपों की जांच सीबीआई करेगी | रविवार, 18 अगस्त 2019

जद(एस) के नेतृत्व वाली कर्नाटक की पूर्व गठबंधन सरकार के दौरान कई नेताओं के फोन टैपिंग के आरोपों की जांच सीबीआई करेगी. कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने रविवार को कहा कि वह कांग्रेस के कई नेताओं की मांग पर इन आरोपों की सीबीआई जांच का आदेश देंगे. बीएस येदियुरप्पा ने पत्रकारों से कहा, ‘टेलीफोन टैपिंग के मुद्दे पर कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्दरमैया समेत कई नेताओं ने कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए और सच्चाई सामने आनी चाहिए, इसलिए मैंने सीबीआई जांच का आदेश देने का फैसला किया है. मैं जांच का आदेश दे दूंगा.’ उन्होंने कहा कि राज्य के लोग चाहते हैं कि विस्तृत जांच की जाए और दोषियों को सजा दी जाए.

सुप्रीम कोर्ट ने तरुण तेजपाल की याचिका खारिज की | सोमवार, 19 अगस्त 2019

सुप्रीम कोर्ट ने चर्चित पत्रिका तहलका के संस्थापक तरुण तेजपाल की याचिका खारिज कर दी. उन्होंने इस याचिका में अपने खिलाफ बलात्कार के आरोप को रद्द करने की मांग की थी. तरुण तेजपाल पर उनकी एक पूर्व महिला सहकर्मी ने ये आरोप लगाया था. शीर्ष अदालत ने गोवा की निचली अदालत को इस मामले में सुनवाई छह महीने के भीतर पूरी करने का आदेश भी दिया. तरुण तेजपाल पर आरोप है कि उन्होंने 2013 में गोवा के एक पांच सितारा होटल में अपनी महिला सहकर्मी का यौन उत्पीड़न किया था. अदालत द्वारा अग्रिम जमानत याचिका खारिज किए जाने के बाद तरुण तेजपाल को 30 नवम्बर 2013 को गिरफ्तार किया गया था. मई 2014 से वे जमानत पर बाहर हैं. सितंबर 2017 में गोवा की एक अदालत ने उन पर बलात्कार और यौन शोषण के आरोप तय किए थे.

प्रवर्तन निदेशालय ने कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को गिरफ्तार किया | मंगलवार, 20 अगस्त 2019

प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को गिरफ्तार कर लिया. ये कार्रवाई सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया से जुड़े 354 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में की गई. तीन दिन पहले ही सीबीआई ने रतुल पुरी, उनके पिता, उनकी कंपनी और इसके प्रबंध निदेशक दीपक पुरी के खिलाफ मामला दर्ज किया था. उन पर आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी, जालसाजी और भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए हैं. उधर, कमलनाथ ने कहा कि रतुल पुरी के व्यवसाय से उनका कोई लेना-देना नहीं है. उन्होंने इसे दुर्भावनापूर्ण रवैये के साथ की गई कार्रवाई भी बताया.

उत्तर प्रदेश : योगी आदित्यनाथ के मंत्रिमंडल में 18 नए चेहरों को जगह मिली | बुधवार, 21 अगस्त 2019

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने मंत्रिमंडल का विस्तार किया. इसके तहत 23 मंत्रियों को शपथ दिलायी गई. राजभवन में आयोजित समारोह में राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने छह कैबिनेट मंत्रियों, स्वतंत्र प्रभार वाले छह राज्य मंत्रियों और 11 राज्य मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी. इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे. मंत्रिमंडल में 18 नए चेहरों को शामिल किया गया है जबकि पांच मंत्रियों की छुट्टी कर दी गई. 2017 में सत्ता में आई भाजपा सरकार का पहला मंत्रिमंडल विस्तार है. इसके बाद योगी सरकार में मंत्रियों की संख्या 43 से बढ़कर 56 हो गई.

पी चिदंबरम को 26 अगस्त तक के लिए सीबीआई की हिरासत में भेजा गया | गुरुवार, 22 अगस्त 2019

सीबीआई की विशेष अदालत ने पूर्व वित्तमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम को 26 अगस्त तक सीबीआई की हिरासत में भेज दिया. गुरूवार को पी चिदंबरम को अदालत में पेश किया गया था और यहां सीबीआई ने उनकी पांच दिन की हिरासत मांगी थी. इस पर कांग्रेस नेता के वकील कपिल सिब्बल और सीबीआई के वकील सॉलीसिटर जनरल तुषार मेहता ने अपनी-अपनी दलीलें दी थीं. एएनआई के मुताबिक सुनवाई पूरी होने के बाद जज अजय कुमार कुहार ने चिदंबरम को अगले सोमवार तक सीबीआई हिरासत में भेजने का फैसला सुनाया. इस अदालत में पेश किए जाने से पहले सीबीआई ने पू्र्व वित्तमंत्री से तीन घंटे तक पूछताछ की. पी चिदंबरम को बुधवार रात उनके आवास से गिरफ्तार किया गया था.

आर्थिक सुधार सरकार की शीर्ष प्राथमिकता : निर्मला सीतारमण | शुक्रवार, 23 अगस्त 2019

अर्थव्यवस्था के हालात पर जताई जा रही चिंताओं के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसमें उन्होंने कहा कि आर्थिक सुधार सरकार की शीर्ष प्राथमिकता हैं और इन पर काम जारी है. निर्मला सीतारमण ने कहा कि इस समय पूरी दुनिया ही मंदी के दौर से गुजर रही है. उनका ये भी कहना था कि इसके बावजूद भारत की स्थिति अमेरिका और चीन से बेहतर है. निर्मला सीतारमण ने जीएसटी को लेकर मिल रही शिकायतों का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि कारोबारियों के जीएसटी रीफंड में जो भी बाधाएं आ रही हैं वे जल्द ही दूर कर ली जाएंगी. इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अर्थव्यवस्था के हालात को लेकर मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला था. उन्होंने कहा था कि सरकार की नीतियों के चलते अर्थव्यवस्था बुरी हालत में आ गई.

राहुल गांधी की अगुवाई में कश्मीर पहुंचे विपक्षी नेताओं को श्रीनगर एयरपोर्ट से दिल्ली लौटाया गया | शनिवार, 24 अगस्त 2019

कांग्रेस के नेता राहुल गांधी की अगुवाई में जम्मू-कश्मीर की स्थिति का जायजा लेने के लिए शनिवार को श्रीनगर एयरपोर्ट पहुंचे विपक्षी दलों के प्रतिनिमंडल को दिल्ली वापस लौटा दिया गया. स्थानीय प्रशासन ने इस प्रतिनिधिमंडल के किसी नेता को एयरपोर्ट से बाहर निकलने की इजाजत नहीं दी जिससे वे सभी वीवीआईपी लाउंज में ही बैठे रहे. इस प्रतिनिधिमंडल में कांग्रेस के नेता आनंद शर्मा और गुलाम नबी आजाद, सीपीआईएम के सीताराम येचुरी, सीपीआई के डी राजा, डीएमके के टी सिवा, आरजेडी के मनोज झा और टीएमसी के दिनेश त्रिवेदी भी शामिल थे. इससे पहले इसी शुक्रवार को विपक्षी दलों के नेताओं के साथ एक बैठक करने के बाद राहुल गांधी ने जम्मू-कश्मीर जाकर वहां की जमीनी स्थिति जानने की घोषणा की थी. हालांकि उसके कुछ ही देर बाद स्थानीय प्रशासन ने वहां लगाए गए प्रतिबंधों और सुरक्षा-व्यवस्था के मद्देनजर उनसे अपना दौरा टालने की अपील भी की थी.

देश और दुनिया की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें.