विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने घरेलू पूंजी बाजारों से अगस्त में अब तक 3,014 करोड़ रुपये की निकासी की है. डिपॉजिटरीज के आंकड़ों के अनुसार, एक से 23 अगस्त के बीच एफपीआई ने शेयर बाजारों से 12,105.33 करोड़ रुपये की निकासी की. लेकिन बांड बाजार में 9,090.61 करोड़ रुपये का निवेश किया. इस तरह से अगस्त में एफपीआई ने घरेलू पूंजी बाजार से 3,014.72 करोड़ रुपये की निकासी की है. 15 कारोबारी सत्रों में से केवल दो सत्र में ही विदेशी निवेशकों ने शुद्ध लिवाली की. बाकी सत्रों में वे बिकवाल रहे.

अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध, ऊंची आय वाले निवेशकों पर बजट में कर की दर बढ़ाने और अमेरिकी फेडरल रिजर्व के नीतिगत दरों में कटौती जैसे मिश्रित कारणों के चलते एफपीआई की शेयर बाजार में बिकवाली जारी रही. हालांकि विशेषज्ञों का मानना है कि सरकार द्वारा एफपीआई पर कर-अधिभर हटाए जाने से वह वापस स्थानीय शेयर बाजारों में निवेश का रुख कर सकते हैं.