केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर में आधार कार्ड के नामांकन की प्रक्रिया और तेज कर सकती है, खास तौर पर कश्मीर में. सरकारी योजनाओं से जुड़े लाभ प्राप्त करने के लिए आधार कार्ड जरूरी है, लेकिन कश्मीर में इसके बनने की प्रक्रिया काफी धीमी है. सरकार के तीन अधिकारियों के मुताबिक इसीलिए कश्मीर में सरकारी योजनाओं का लाभ देने के लिए यहां के नागरिकों के आधार कार्ड तेजी से बनवाए जाएंगे.

हिंदुस्तान टाइम्स में प्रकाशित खबर के मुताबिक 31 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर के द्विभाजन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद वहां आधार कार्ड नामांकन में तेजी लाई जाएगी. इसे लेकर एक अधिकारी ने कहा, ‘आधार कार्ड सब्सिडी देने और कल्याणकारी योजनाओं को लागू करने का एक सफल माध्यम है. सरकार जम्मू-कश्मीर के विकास के लिए प्रतिबद्ध है और आधार इसे पूरा करने के प्रयास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा.’

अधिकारी के मुताबिक हालांकि जम्मू-कश्मीर में 78 प्रतिशत लोगों के पास आधार कार्ड है, लेकिन कुछ इलाकों तक यह अभी भी नहीं पहुंचा है. वहां इसके नामांकन की प्रक्रिया काफी धीमी है. वहीं, दूसरे अधिकारी ने कहा कि राज्य में आधार कार्ड पहले से बन रहे है, लेकिन घाटी के कुछ इलाकों में इसकी नामांकन प्रक्रिया पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है. इसके लिए इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय पंचायत स्तर पर सामान्य सेवा केंद्र बनाने पर विचार कर रही है.