दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि उनकी सरकार की मुफ्त कोचिंग योजना की बदौलत ही यह मुमकिन हुआ कि एक टेलर का बेटा भी आईआईटी में पहुंचा है. एक ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘विजय कुमार के पिताजी दर्जी हैं, माताजी घरेलू काम करती हैं. आज मुझे बेहद ख़ुशी हो रही है कि दिल्ली सरकार ने इनकी मुफ्त कोचिंग कराई और इनका आईआईटी में दाख़िला हो गया. यही तो था बाबासाहब का सपना, जो आज दिल्ली पूरा कर रही है.’

अरविंद केजरीवाल ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि उन्हें खुशी है कि इस साल उनका बेटा और विजय कुमार एक साथ आईआईटी में जा रहे हैं.

अरविंद केजरीवाल के बेटे पुलकित ने बीते साल सीबीएसई की 12वीं की परीक्षा में 96.4 फीसदी अंक हासिल किए थे. 2014 में उनकी बेटी हर्षिता ने भी इसी परीक्षा में 96 फीसदी अंक लाने में कामयाबी पाई थी. बाद में उसका चयन भी आईआईटी के लिए हो गया था. सिविल सेवा में आने से पहले अरविंद केजरीवाल ने भी आईआईटी खड़गपुर से पढ़ाई की थी.

शिक्षा पर दिल्ली की केजरीवाल सरकार का काम काफी सुर्खियां बटोर रहा है. सरकारी स्कूलों का कायाकल्प करने के उसके प्रयासों का एक वर्ग से काफी सराहना मिली है.