पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख राशिद अहमद ने कहा है कि आगामी अक्टूबर-नवंबर के महीनों में भारत और पाकिस्तान के बीच जंग हो सकती है. और अगर ऐसा हुआ तो वह भारत के साथ ‘निर्णायक और आखिरी’ जंग होगी. शेख राशिद अहमद ने यह बात बुधवार को अपने गृहनगर रावलपिंडी में एक कार्यक्रम के दौरान कही.

इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘अगर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् (यूएनएससी) ने कश्मीर मसले को हल करना चाहा होता तो वह वहां जनमत संग्रह करवाता. हमें भारत के कब्जे वाले कश्मीर के लोगों के साथ खड़ा रहना होगा इसलिए मैंने मुहर्रम के बाद एक बार फिर आजाद कश्मीर (पीओके) का दौरा करने का फैसला किया है.’

इसके साथ ही शेख राशिद अहमद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘बर्बर और फासीवादी’ विचारधारा का नेता बताते हुए आगे कहा, ‘नरेंद्र मोदी की इसी सोच की वजह से आज कश्मीर विनाश की कगार पर है. उनकी इस सोच में अकेला पाकिस्तान बाधक बना हुआ है जबकि दुनिया के दूसरे मुसलमान इस पर चुप हैं.’

इसी कार्यक्रम के दौरान अहमद ने उन लोगों को ‘मूर्ख’ भी बताया जो भारत के साथ अब भी बातचीत की संभावना देख रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘आगामी 27 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कश्मीर को लेकर अपना पक्ष रखेंगे जो काफी महत्वपूर्ण होगा. मैं समझता हूं कि हम भाग्यशाली हैं कि चीन जैसा दोस्त इस मुद्दे पर हमारे साथ खड़ा है.’