केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर पर मंत्रियों का समूह बनाया, 30 अक्टूबर तक रिपोर्ट मांगी

केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर को लेकर एक मंत्रिसमूह बनाया है. इसका काम इलाके के विकास के लिए एक ब्लूप्रिंट तैयार करना होगा. बताया जा रहा है कि इसे 30 अक्टूबर तक अपनी रिपोर्ट देनी है. इस मंत्री समूह में कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और प्रधानमंत्री कार्यालय में मंत्री जितेंद्र सिंह शामिल हैं.

इस बीच, सुप्रीम कोर्ट ने सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी को भी जम्मू-कश्मीर जाने की इजाजत दे दी है. उन्होंने अदालत से कहा था कि वे अपने पार्टी सहयोगी मोहम्मद यूसुफ तारिगामी का हाल जानने वहां जानना चाहते हैं जो इन दिनों हिरासत में हैं. शीर्ष अदालत ने सीताराम येचुरी को हिदायत दी कि वे अपनी यात्रा का इस्तेमाल किसी राजनीतिक उद्देश्य के लिए न करें. सीपीएम महासचिव इससे पहले भी दो बार श्रीनगर पहुंचे थे लेकिन प्रशासन ने उन्हें एयरपोर्ट से ही दिल्ली लौटा दिया था.

जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ सुनवाई करेगी, केंद्र को नोटिस जारी

जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के केंद्र के फैसले के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ सुनवाई करेगी. पांच सदस्यीय पीठ ये सुनवाई अक्टूबर में करेगी. शीर्ष अदालत ने इस संबंध में केंद्र सरकार को एक नोटिस जारी कर उससे जवाब भी मांगा है. इससे पहले केंद्र सरकार ने इसका विरोध किया था. उसकी दलील थी कि अगर इस सुनवाई शुरू की गई तो इसका असर देश की सीमाओं से परे भी जाएगा. हालांकि अदालत ने इसे खारिज करते हुए कहा कि उसे अपना काम मालूम है. जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 निष्प्रभावी करने के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में कई याचिकाएं दायर की गई हैं. इनमें इस फैसले को असंवैधानिक बताया गया है. सरकार ने ये फैसला इसी महीने की शुरुआत में किया था. इसके तहत जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों में भी बांट दिया गया है.

कांग्रेस में आंतरिक कलह तेज हुई, वीरप्पा मोइली ने यूपीए2 के दौरान पॉलिसी पैरेलिसिस के लिए जयराम रमेश को जिम्मेदार ठहराया

कांग्रेस में आंतरिक कलह तेज होता दिख रहा है. आज पूर्व केंद्रीय मंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली ने अपने सहयोगी जयराम रमेश पर निशाना साधा. वीरप्पा मोइली ने कहा कि यूपीए की सरकार के दूसरे कार्यकाल के दौरान पॉलिसी पैरेलिसिस के लिए जयराम रमेश जिम्मेदार थे. उन्होंने केंद्रीय मंत्री रहने हुए जयराम रमेश के काम पर भी सवाल उठाए. इससे पहले जयराम रमेश ने कहा था कि हर समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विलेन की तरह पेश करना सही रणनीति नहीं है. वीरप्पा मोइली ने अपने एक अन्य सहयोगी शशि थरूर के बयान की भी आलोचना की. इसमें शशि थरूर ने कहा था कि विपक्ष को सही कामों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ भी करनी चाहिए.

रेनो ने ‘सबकॉम्पेक्ट सेवन सीटर’ ट्राइबर को बाजार में उतारा

फ्रांस की दिग्गज वाहन कंपनी रेनो ने ट्राइबर को भारतीय बाजार में पेश कर दिया है. ये सात सीटों वाला सबकॉम्पैक्ट एमपीवी है. ट्राइबर की कीमत 4.95 से 6.49 लाख रुपये के बीच रखी गई है. क्विड के बाद यह रेनो का दूसरा मॉडल है जिसे भारतीय बाजार के लिए विकसित और डिजाइन किया गया है. कहा जा रहा है कि रेनो की ये नई गाड़ी क्विड, डस्टर और कैप्टर जैसी एसयूवी के बीच की खाली जगह को भरेगी. भारतीय ऑटो सेक्टर में छाई मंदी के बीच हाल में उतारे गए कुछ नए मॉडलों को काफी सफलता मिली है. टाटा हैरियर, एमजी हेक्टर और ह्यूंडेई वेन्यू इनमें से प्रमुख हैं. क्विड, डस्टर और कैप्टर की गिरती बिक्री से चिंतित रेनो को भी उम्मीद है कि ट्राइबर से उसे अच्छी खबर मिलेगी.

पहले इनकार के बाद ब्राजील एमेजॉन के जंगलों में लगी आग बुझाने के लिए विदेशी मदद लेने के लिए तैयार हुआ

ब्राजील एमेजॉन के जंगलों में लगी आग को बुझाने के लिए विदेशी आर्थिक मदद लेने को राजी हो गया है. एक दिन पहले ही उसने ये मदद लेने से इनकार कर दिया था. अब ब्राजील इस शर्त पर राजी हुआ है कि इस पैसे को कैसे इस्तेमाल किया जाए, ये वो तय करेगा. फ्रांस में हुए जी7 शिखर सम्मेलन के दौरान विश्व की सातों प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं ने एमेजॉन में लगी आग बुझाने के लिए ब्राजील को दो करोड़ डॉलर की पेशकश की थी. लेकिन उसने इसे ठुकरा दिया था. उसका कहना था कि इस पैसे से यूरोप में पेड़ लगाए जाने चाहिए. ब्राजील के एमेजॉन के जंगलों को ‘दुनिया के फेफड़े’ कहा जाता है. माना जाता है कि यहां की हरियाली से पूरी दुनिया को 20 फीसदी ऑक्सीजन मिलती है.

देश और दुनिया की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें.