‘चुनाव के समय धारा-370 के हिमायती लोगों को जनता जूतों से मारेगी.’

— सत्यपाल मलिक, जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल

सत्यपाल मलिक ने यह बात एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पूछे गए एक सवाल के जवाब में कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर निशाना साधते कही. इस मौके पर उन्होंने राहुल गांधी को एक बार फिर ‘पॉलिटिकल जुवेनाइल (राजनीतिक नौसिखिया) बताया और कहा, ‘अगर वे वाकई लीडर होते तो कश्मीर को लेकर अपना स्टैंड उसी दिन साफ करते जब संसद में उनकी पार्टी के एक नेता ने कश्मीर को संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के साथ जोड़ा था.’ इसके साथ सत्यपाल मलिक का यह भी कहना था कि राहुल गांधी ने अब तक कश्मीर पर अपनी पार्टी का रुख स्पष्ट नहीं किया है.

‘पाकिस्तान के लिए यही बेहतर है कि वह भारत के साथ सौहार्दपूर्ण रिश्ते रखे.’

— दलाई लामा, तिब्बती धर्मगुरु

दलाई लामा ने यह बात एक बातचीत में पाकिस्तान को ‘नसीहत’ देते हुए कही. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘पाकिस्तान की आर्थिक हालत खस्ता है. कश्मीर को लेकर अपने भाषणों में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान जोश दिखा रहे हैं लेकिन वे अच्छी तरह जानते हैं कि जंग में भारत को पाकिस्तान हरा नहीं सकता.’ इसी मौके पर एक सवाल के जवाब में दलाई लामा ने लद्दाख को जम्मू-कश्मीर से अलग किए जाने संबंधी भारत सरकार के फैसले का समर्थन भी किया.


‘पाकिस्तान या दुनिया का कोई भी अन्य देश जम्मू-कश्मीर में हस्तक्षेप नहीं कर सकता.’

— राहुल गांधी, कांग्रेस के नेता

राहुल गांधी ने यह बयान एक ट्वीट के जरिये जम्मू-कश्मीर को लेकर संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में पाकिस्तान की तरफ से दायर एक कथित याचिका में उनका नाम शामिल किए जाने पर दिया. इसी ट्वीट से राहुल गांधी ने यह भी कहा, ‘मैं इस सरकार से कई मामलों पर असहमत हूं. लेकिन मैं यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि कश्मीर भारत का अंदरूनी मामला है जिसमें किसी अन्य के हस्तक्षेप की कोई संभावना नहीं है.’


‘राहुल गांधी ने संयुक्त राष्ट्र में भारत को निशाना बनाने के लिए पाकिस्तान को मौका दिया है.’

— प्रकाश जावड़ेकर, केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री

प्रकाश जावड़ेकर ने यह बात एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राहुल गांधी के एक बयान को लेकर उनपर निशाना साधते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा, ‘राहुल गांधी के कश्मीर में हिंसा वाले बयान को पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में दलील के तौर पर इस्तेमाल करने की कोशिश कर रहा है. इसके लिए उन्हें देश से माफी मांगनी चाहिए.’ प्रकाश जावड़ेकर ने तंज भरे लहजे में आगे कहा, ‘उस बयान पर जब देश के लोगों ने गुस्सा जाहिर किया तो आज राहुल गांधी को उसपर यू-टर्न लेना पड़ा.’


‘अक्टूबर-नवंबर के दौरान भारत-पाकिस्तान के बीच जंग हो सकती है.’

— शेख राशिद अहमद, पाकिस्तान के रेल मंत्री

शेख राशिद अहमद ने यह बात रावलपिंडी में एक कार्यक्रम के दौरान कही और यह भी कहा कि अगर ऐसा हुआ तो वह भारत के साथ ‘निर्णायक और अखिरी’ जंग होगी. इसी मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘बर्बर और फासीवादी’ विचारधारा का नेता बताते हुए उन्होंने यह भी कहा, ‘नरेंद्र मोदी की इसी सोच से आज कश्मीर विनाश की कगार पर है. उनकी इस सोच में अकेला पाकिस्तान बाधक बना हुआ है जबकि दुनिया के दूसरे मुसलमान इस पर चुप हैं.’