केंद्र सरकार आगामी दो अक्टूबर से छह प्लास्टिक आइटमों पर देशव्यापी प्रतिबंध लगाने जा रही है. इन आइटमों में प्लास्टिक बैग, कप, स्ट्रॉ, प्लेट, छोटी बोतलें और खास तरह की थैलियां शामिल हैं. एनडीटीवी के मुताबिक सरकार के एक अधिकारी ने बताया कि प्रतिबंधित चीजों के निर्माण और इस्तेमाल के साथ उनके आयात पर भी प्रतिबंध लगाया जाएगा.

केंद्र सरकार एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक उत्पादों को बंद करने के प्रयास कर रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं इसका नेतृत्व कर रहे हैं. स्वतंत्रता दिवस पर दिए अपने भाषण में उन्होंने लोगों और सरकारी एजेंसियों से अपील की थी कि वे देश को एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक से मुक्त करने की दिशा में आगामी दो अक्टूबर को बड़ा कदम उठाएं. सरकार का लक्ष्य है कि 2022 तक इस तरह के प्लास्टिक को खत्म कर दिया जाए. हालांकि इस मुहिम का नेतृत्व कर रहे पर्यावरण मंत्रालय और आवासन मंत्रालय ने रॉयटर्स द्वारा संपर्क किए जाने पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.

खबर के मुताबिक सरकार के एक अधिकारी के मुताबिक भारत में सालाना एक करोड़ 40 लाख टन प्लास्टिक की खपत होती है. यह इन छह आइटमों पर लगने वाले प्रतिबंध से पांच से दस प्रतिशत तक कम हो जाएगी. अन्य अधिकारियों ने बताया कि प्रतिबंध के शुरुआती छह महीनों के बाद प्रतिबंधित आइटम इस्तेमाल करने वालों पर जुर्माना लगाया जाएगा. वहीं, एक सूत्र ने बताया कि सरकार पर्यावरण के मद्देनजर प्लास्टिक के इस्तेमाल पर अन्य प्रकार के नियम लागू करने की योजना भी बना रही है. साथ ही, वह प्लास्टिक की रीसाइकलिंग पर भी ध्यान देगी.