कश्मीर मामले पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एक बार फिर पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया है. उन्होंने कहा है, ‘मैं पाकिस्तान से पूछना चाहता हूं, कश्मीर कब आपका था कि इसे लेकर रो रहे हो. पाकिस्तान बन गया तो हम आपके वजूद का सम्मान करते हैं लेकिन कश्मीर पर आपका कोई हक नहीं है.’ राजनाथ सिंह ने यह बात आज लद्दाख में एक कार्यक्रम के दौरान कही है.

इस मौके पर रक्षा मंत्री ने यह भी कहा, ‘पाकिस्तान के साथ भारत एक अच्छे पड़ोसी का संबंध रखना चाहता है लेकिन इसके लिए उसे आतंकवाद को प्रोत्साहन देना बंद करना होगा और इसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी होगी.’ उन्होंने आगे कहा, ‘बीते दिनों कश्मीर को लेकर अमेरिका के रक्षा मंत्री मार्क एस्पर के साथ मेरी टेलीफोन पर बातचीत हुई थी. उस दौरान मार्क एस्पर ने भी जम्मू-कश्मीर से धारा 370 के अधिकांश प्रावधान हटाने संबंधी हमारे फैसले को भारत का अंदरूनी मामला कहा था.’

इसके साथ ही राजनाथ सिंह ने एक बार फिर दोहराया कि अब पाकिस्तान से बात होगी तो वह सिर्फ पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) को लेकर होगी. उन्होंने आगे कहा, ‘कश्मीर में पाकिस्तान मानवाधिकार के उल्लंघन की बातें कह रहा है. लेकिन इस बारे में उसे कश्मीर पर नहीं बल्कि पीओके पर ध्यान देना चाहिए और उसे यह भी समझना चाहिए कि कश्मीर के मुद्दे पर दुनिया का कोई देश उसका समर्थन नहीं कर रहा.’ इससे पहले 18 अगस्त को भी एक कार्यक्रम में रक्षा मंत्री ने कहा था कि पाकिस्तान से अब कोई भी बात सिर्फ पीओके को लेकर ही होगी.

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने और इस राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने वाले भारत के फैसले पर पाकिस्तान पहले ही अपनी आपत्ति जता चुका है. इसी के मद्देनजर उसने भारत के साथ अपने व्यापारिक और कूटनीतिक रिश्तों को भी सीमित कर लिया है. अब पाकिस्तान इसे लेकर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) का रुख करने वाला है. इस दौरान भारत ने जम्मू-कश्मीर को अपना अंदरूनी मामला बताते हुए पाकिस्तान की तमाम आपत्तियां खारिज की हैं.