पाकिस्तान में एक सिख युवती का जबरन धर्मांतरण करा कर मुस्लिम व्यक्ति से शादी किए जाने का मामला सामने आया है. घटना पाकिस्तान के लाहौर शहर के ननकाना साहिब इलाके की है. खबर के मुताबिक सिख युवती कुछ दिनों से लापता थी. गुरुवार को जब वह सामने आई, तब तक उसका विवाह एक मुस्लिम व्यक्ति से हो चुका था. युवती के परिवार ने इसकी एफआईआर दर्ज कराई है. साथ ही, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से एक वीडियो के जरिये दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की अपील की है. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक इस मामले से संबंधित एक वीडियो भी सामने आया है जिसमें युवती को आयशा कह कर पुकारा गया है. बताया गया कि वीडियो उस जगह का है जहां उसका जबरन धर्मांतरण किया गया.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक पीड़ित युवती इलाके के तंबू साहिब गुरुद्वारा के ग्रंथि (संत) की बेटी है. बीती 27-28 अगस्त की दरमियानी रात को उसे बंदूक की नोंक पर जबरन अगवा कर लिया गया था. इस बारे में परिवार ने जो वीडियो बनाया है, उसमें युवती का भाई कह रहा है, ‘हमारे परिवार के साथ दर्दनाक हादसा हुआ है. कुछ गुंडे जबर्दस्ती हमारे घर में घुसे और मेरी छोटी बहन को उठा कर ले गए. उन्होंने उसे प्रताड़िता किया और जबरन इस्लाम कुबूल करवाया.’

युवती के भाई का यह भी आरोप है कि परिवार ने कई वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से मिल कर गुहार लगाई लेकिन किसी ने उनकी शिकायत नहीं सुनी. उसने यह भी कहा कि लड़की को अगवाह करने वाले लोग उनके यहां दोबारा आए थे. वे उन्हें धमकी देकर गए अगर परिवार शिकायत पर अड़ा रहा तो सभी सदस्यों का जबरन धर्मांतरण कर दिया जाएगा.

इस बीच, पाकिस्तान के सिख समुदाय ने ननकाना साहिब गुरुद्वार में एक बैठक बुलाकर इस घटना की कड़ी निंदा की है. इसके अलावा वे आज गवर्नर हाउस के बाहर विरोध प्रदर्शन भी करेंगे. वहीं, दिल्ली स्थित दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंध समिति और अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने भी इस घटना की निंदा की है. साथ ही, उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर से इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील की है.

उधर, भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने इस मामले पर जानकारी देते हुए कहा, ‘हमने पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के खिलाफ अत्याचर, अपहरण और जबरन धर्मांतरण किए जाने का मुद्दा एक बार फिर उठाया है. उन्होंने (पाकिस्तान की सरकार) इन लोगों से जो वादे किए वे उन्हें पूरे करने चाहिए. दूसरों के लिए कुछ कहने से पहले वे अपनेआप को देखें, उनका घर जल रहा है. पहले उन्हें इस पर ध्यान देना चाहिए.’