बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने घोषणा की है कि देश के पूर्व वित्तमंत्री और भाजपा के दिवंगत नेता अरुण जेटली को सम्मान देने के लिए राज्य में उनकी एक मूर्ति स्थापित की जाएगी. इंडिया टुडे की एक खबर जनता दल (यूनाइटेड) के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने यह भी कहा है कि बिहार में अब से अरुण जेटली के जन्मदिन (28 दिसंबर) पर हर साल राजकीय समारोह आयोजित होगा. इससे पहले बीते हफ्ते दिल्ली और जिला क्रिकेट एसोसिएशन (डीडीसीए) ने फिरोजशाह कोटला मैदान का नाम अरुण जेटली स्टेडियम रखने की घोषणा की थी.

पूर्व वित्तमंत्री का बीते 24 अगस्त को निधन हुआ था. उनके निधन पर तमाम राजनेताओं के साथ नीतीश कुमार ने भी शोक जताया था. तब उनका कहना था, ‘अरुण जेटली जी असाधारण रूप से बहुत ही काबिल व्यक्ति थे. उन्होंने भारत सरकार के कई मंत्रालयों की जिम्मेदारी अपने कंधों पर बहुत ही कुशलता के साथ उठाई थी. इसके अलावा वे कानून के बहुत ही अच्छे जानकार थे.’

अरुण जेटली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहले कार्यकाल में उनकी कैबिनेट का महत्वपूर्ण हिस्सा थे. उनके पास वित्त और रक्षा मंत्रालय का प्रभार था. सरकार के लिए वे संकटमोचक की भूमिका में रहे. पिछले साल 14 मई को एम्स में उनका किडनी ट्रांसप्लांट ऑपरेशन हुआ था. उस समय रेल मंत्री पीयूष गोयल को उनके वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई थी. खराब स्वास्थ्य के कारण अरुण जेटली ने 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था.