विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा है कि भारत आतंकवाद मुक्त माहौल में पाकिस्तान के साथ विभिन्न मुद्दों पर द्विपक्षीय बातचीत के लिए तैयार है. खबरों के मुताबिक उन्होंने यह बात यूरोपीय यूनियन के कमिश्नर क्रिस्टोस स्टीलियनाइड्स के साथ एक बैठक के दौरान कही. भारतीय विदेश मंत्री के इस बयान से पहले इसी बैठक में क्रिस्टोस स्टीलियनाइड्स ने भारत-पाकिस्तान को आपसी बातचीत के जरिये कश्मीर मुद्दा सुलझाने की सलाह दी थी.

वहीं इस बैठक के बाद एस जयशंकर ने एक ट्वीट भी किया जिसके जरिये उन्होंने कहा, ‘क्रिस्टोस स्टीलियनाइड्स के साथ एक अच्छी बैठक हुई. इस दौरान हमने अफगानिस्तान और ईरान पर अपने-अपने विचारों पर चर्चा की. जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बेहतर प्रशासन और विकास को लेकर अपने विचारों को साझा किया.’ इसी ट्वीट से उन्होंने यह भी कहा, ‘मैंने आतंक और हिंसा मुक्त माहौल में पाकिस्तान के साथ सभी मुद्दों पर द्विपक्षीय बातचीत के लिए भारत के तैयार रहने की बात भी स्पष्ट की है.’

बीते पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिए जाने और इस राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने संबंधी फैसले के बाद भारत-पाकिस्तान के आपसी रिश्तों में तनाव और बढ़ गया है. इसी के मद्देनजर पाकिस्तान ने भारत के साथ अपने व्यापारिक और राजनयिक रिश्तों को भी सीमित कर लिया है. वहीं इस दौरान जम्मू-कश्मीर को लेकर किए फैसलों को भारत ने अपना आंतरिक मामला बताते हुए पाकिस्तान को इसमें दखल नहीं देने की नसीहत भी दी है.

वहीं इससे पहले शनिवार को ही पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी का बयान आया था कि उनका देश भारत के साथ सशर्त बातचीत के लिए तैयार है. इन शर्तों का जिक्र करते हुए पाकिस्तान के विदेश मंत्री का कहना था, ‘इसके लिए भारत को कश्मीर में नजरबंद किए गए नेताओं को रिहा करना होगा और हमें उनसे मिलने की इजाजत देनी होगी. ’