देश के आर्थिक हालत बेहद चिंताजनक होने के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बयान को सरकार ने सिरे से खारिज कर दिया है. सरकार ने मंगलवार को कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार अर्थव्यवस्था को समग्र दृष्टिकोण के साथ देखती है और ऐसे ही प्रयासों के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया में 11वें स्थान से उठ कर 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गयी है.

केंद्रीय मंत्रिमंडल के बैठक के बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने संवाददाताओं के सवालों का जवाब देते यह बात कही. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बयान से संबंधित सवाल पर उन्होंने कहा, ‘मनमोहन सिंह ने जो विश्लेषण किया, उससे हम इत्तेफाक नहीं रखते हैं. हम जो कहते है, वह करते हैं. हमने अर्थव्यवस्था को 11वें स्थान से पांचवें स्थान पर पहुंचाया है और हम तीसरे स्थान की दिशा में बढ़ रहे हैं.’ सूचना एवं प्रसारण मंत्री ने कहा कि सरकार अर्थव्यवस्था को टुकड़ों-टुकड़ों में नहीं देखती बल्कि उसका अर्थव्यवस्था के बारे में समग्र नजरिया है.

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर घटकर पांच प्रतिशत पर आने के बीच पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि आर्थिक हालात ‘बेहद चिंताजनक’ हैं और यह नरमी मोदी सरकार के तमाम कुप्रबंधनों का परिणाम है. पूर्व प्रधानमंत्री ने अपने बयान में कहा था कि पहली तिमाही में 5 फीसदी की जीडीपी वृद्धि दर दर्शाती है कि हम आर्थिक नरमी के एक लंबे दौर में फंए गए हैं.