‘हम दोनों किसी देश के आंतरिक मामलों में बाहरी दखल के खिलाफ हैं.’

— नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह बात रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ एक साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कही. उनका यह बयान पाकिस्तान पर निशाना माना जा रहा है जो जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए जाने के मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाने की कोशिश कर रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन की रूस यात्रा पर हैं.

‘उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार आम जनता की जेब काटने में लगी है! क्यों?’  

— प्रियंका गांधी, कांग्रेस महासचिव

प्रियंका गांधी का यह बयान उत्तर प्रदेश सरकार के उस फैसले के बाद आया है जिसके तहत बिजली की दरों में 12 फीसदी तक की बढ़ोतरी की गई है. इसे लेकर विपक्ष योगी सरकार पर हमलावर है. बसपा प्रमुख मायावती ने भी इसकी आलोचना की है.


‘यह अस्वीकार्य है.’

— डॉमिनिक राब, ब्रिटेन के विदेश मंत्री

ब्रिटिश विदेश मंत्री ने यह प्रतिक्रिया लंदन में भारतीय उच्चायोग पर हुए पथराव पर दी है. यह पथराव कश्मीर मुद्दे पर आयोजित एक विरोध प्रदर्शन के दौरान हुआ था. लंदन के मेयर सादिक खान ने भी इस घटना की निंदा की है. फिलहाल इस सिलसिले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है.


‘भारत को ऐसे नेता की जरूरत है जो पीएम से निडर होकर बात कर सके.’  

— मुरली मनोहर जोशी, भाजपा के वरिष्ठ नेता

मुरली मनोहर जोशी ने यह बात कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयपाल रेड्डी की श्रद्धांजलि सभा में कही. उन्होंने इस पर भी निराशा जताई कि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय महत्व के अहम मुद्दों पर लगभग सभी राजनीतिक पार्टियों में दलगत राजनीति से परे होकर गंभीर विचार विमर्श की परंपरा लगभग खत्म हो गई है.


‘एमपी में एक मंत्री सुरक्षित नहीं, सरकार नागरिकों के हितों की रक्षा कैसे करेगी?’ 

— शिवराज सिंह चौहान, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री

शिवराज सिंह चौहान ने यह बात मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए कही है. उनका यह बयान राज्य के वन मंत्री उमंग सिंघार के घर के बाहर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के समर्थकों के विरोध प्रदर्शन पर आया है. इन लोगों ने वन मंत्री का पुतला भी फूंका.