दिल्ली की एक अदालत ने पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति से जुड़े एयरसेल-मैक्सिस मामले में सुनवाई अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दी है. पीटीआई के मुताबिक उसने इसकी वजह सीबीआई और ईडी द्वारा बार-बार स्थगन की मांग को बताया है. एजेंसियों ने अदालत से इस मामले को अक्टूबर में पहले सप्ताह तक स्थगित करने का अनुरोध किया था. इस पर विशेष न्यायाधीश ओपी सैनी ने कहा, ‘अभियोजन पक्ष तारीख पर तारीख मांग रहा है. मामले को अनिश्चितकाल तक स्थगित किया जाता है. जब भी जांच पूरी हो जाए तो अभियोजन पक्ष अदालत का रुख कर सकता है.’ इससे एक दिन पहले उन्होंने इस मामले में पी चिदंबरम और उनके बेटे को इसी आधार पर अग्रिम जमानत दे दी थी.

सीबीआई और ईडी इस बात की जांच कर रहे हैं कि 2006 में जब पी चिदंबरम वित्त मंत्री थे तो एयरसेल-मैक्सिस सौदे के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी कैसे मिली. आरोप है कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के दौरान वित्त मंत्री रहते हुए कांग्रेस नेता ने कुछ लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए अपनी क्षमता से परे जाकर इस सौदे को मंजूरी दी थी और इसके एवज में रिश्वत ली थी. पी चिदंबरम फिलहाल आईएनएक्स मीडिया मामले में न्यायिक हिरासत में हैं. उन्हें दिल्ली की तिहाड़ जेल में रखा गया है.