कश्मीर घाटी के बरामूला जिले के सोपोर से लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों के आठ सहयोगियों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस का कहना है कि इन लोगों को इसलिये गिरफ्तार किया गया है क्योंकि ये आतंकियों के इशारे पर पोस्टर लगाकर स्थानीय लोगों को डरा-धमका रहे थे.

जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया, ‘पुलिस ने कश्मीर के सोपोर में पोस्टर प्रकाशित कर स्थानीय लोगों को डराने-धमकाने में शामिल आतंकवादियों के आठ सहयोगियों को गिरफ्तार किया है. ये पोस्टर कश्मीर के कुछ हिस्सों में लगाए गए हैं, जिसमें ‘नागरिक कर्फ्यू’ की बात कही गई है और लोगों से इसके खिलाफ ‘सविनय अवज्ञा’ करने को कहा गया है.’ पुलिस के मुताबिक, उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के सोपोर इलाके में इन पोस्टरों के नजर आने के बाद इनकी गिरफ्तारी हुई है.

पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि शुरुआती जांच के बाद इस मामले में आतंकवादियों के आठ सहयोगी एजाज मीर, उमर मीर, तौसीफ नजर, इम्तियाज नजर, उमर अकबर, फैजान लतीफ, दानिश हबीब और शौकत अहमद मीर को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस के अनुसार, स्थानीय आतंकी सज्जाद मीर उर्फ हैदर व उसके सहयोगी मुदस्सिर पंडित और आसिफ मकबूल भट इस मामले के मास्टर माइंड थे, जिनके कहने पर इन पोस्टरों को लगाया गया है. ये तीनों प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर ए तैयबा से जुड़े हैं.

कश्मीर पुलिस द्वारा ये गिरफ्तारियां उस वारदात के दो दिनों बाद की गई हैं जब सोपोर में एक फल व्यापारी के घर पर विस्फोटक से हमला किया गया था. इस हमले में एक दो साल की बच्ची समेत चार लोग घायल हो गए थे. जम्मू-कश्मीर के विशेष राज्य का दर्जा खत्म करने के बाद से राज्य के सभी हिस्सों में भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात हैं.