दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर झूठ बोलने का आरोप लगाया है. मनोज तिवारी ने दावा किया है कि केजरीवाल शहर में वायु प्रदूषण के स्तर को कम करने का झूठा श्रेय लूटने की कोशिश कर रहे हैं, जबकि इसका श्रेय नरेंद्र मोदी की सरकार को जाता है.

पीटीआई के मुताबिक तिवारी ने मंगलवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि दिल्ली में आप सरकार द्वारा वायु प्रदूषण पर काबू पाने के लिए किए गए दावे झूठे हैं, राज्य सरकार ने तो केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के निर्देशों का भी पालन नहीं किया.

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष के मुताबिक प्रदूषण स्तर में कमी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देना चाहिए, जिन्होंने प्रदूषण को एक चुनौती की तरह लिया और कई कदम उठाए. मनोज तिवारी ने केन्द्र सरकार द्वारा उठाये गए कदमों का जिक्र करते हुए बताया कि राजमार्ग बनने से 60,000 ट्रक का राजधानी में प्रवेश बंद होना, बदरपुर ताप संयंत्र को बंद किया जाना, मशीनों से सड़क की सफाई तथा प्रदूषण फैलाने वाले उद्योगों के खिलाफ कार्रवाई जैसे कदम नरेंद्र मोदी सरकार ने ही उठाये हैं.

उधर, आम आदमी पार्टी (आप) ने मनोज तिवारी के आरोपों का जवाब दिया है. आप के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि तिवारी को राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण कम होने का पूरा श्रेय ले लेना चाहिए और गाजियाबाद तथा गुरुग्राम में प्रदूषण बढ़ने के लिए अरविंद केजरीवाल को जिम्मेदार ठहरा देना चाहिए.

पीटीआई के मुताबिक भारद्वाज का कहना था, ‘हम मनोज तिवारी से सहमत हैं, भाजपा को दिल्ली में प्रदूषण कम होने का पूरा श्रेय लेने दीजिए. अरविंद केजरीवाल को नोएडा और गुरुग्राम में प्रदूषण का स्तर बढ़ने के लिए जिम्मेदार ठहरा दीजिए क्योंकि केजरीवाल उत्तर प्रदेश और हरियाणा में योगी जी और खट्टर जी को काम नहीं करने दे रहे हैं.’

इससे पहले बीते शुक्रवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि पिछले तीन साल में आप सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के चलते प्रदूषण में 25 प्रतिशत की कमी हुई है. हालांकि, उन्होंने अपनी सरकार के साथ-साथ उच्चतम न्यायालय, केंद्र सरकार, पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम और नियंत्रण) प्राधिकरण (ईपीसीए) के प्रयासों का जिक्र भी किया था.