दिल्ली हाई कोर्ट ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की जमानत याचिका पर सीबीआई से जवाब मांगा है. जांच एजेंसी को जवाब दाखिल करने के लिए 23 सितंबर का वक्त दिया गया है. पी चिदंबरम फिलहाल दिल्ली की तिहाड़ जेल में हैं. उनकी न्यायिक हिरासत 19 सितंबर को खत्म होगी.

अपनी याचिका में पी चिदंबरम ने कहा है कि उनके खिलाफ जांच एजेंसियों की कार्रवाई राजनीतिक बदले की भावना से प्रेरित है. उन्होंने खुद को कानून का पालन करने वाला नागरिक बताया और कहा कि उनके भागने का कोई सवाल नहीं उठता. पी चिदंबरम ने हाई कोर्ट से यह अपील भी की थी कि उन्हें जेल में घर में बना खाना खाने की अनुमति दी जाए. लेकिन अदालत ने इसे नामंजूर कर दिया.

सीबीआई ने पी चिदंबरम को 21 अगस्त को गिरफ्तार किया था. यह गिरफ्तारी आईएनएक्स मीडिया मामले में हुई. यह 2006 का मामला है. सीबीआई का आरोप है इस मीडिया समूह में विदेशी निवेश की मंजूरी देने में गड़बड़ी की गई. तब पी चिदंबरम ही वित्त मंत्री थे. इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने भी मनी लॉन्डरिंग का एक केस दर्ज किया है. जांच एजेंसी भी पी चिदंबरम को हिरासत में दिए जाने का अनुरोध कर रही है.